34 C
Mumbai
Monday, April 22, 2024
होमदेश दुनिया'अभी यहां कुछ करूंगा तो...', शरद पवार का मोदी सरकार पर 'वो'...

‘अभी यहां कुछ करूंगा तो…’, शरद पवार का मोदी सरकार पर ‘वो’ अंदाज में हमला!

इन सांसदों के दुर्व्यवहार के आरोप में अब तक दोनों सदनों में विपक्षी दलों के 143 सांसदों को निलंबित किया जा चुका है। इस तरह के व्यवहार के विरोध में आज दिल्ली में विपक्षी दलों के मार्च में हिस्सा लेने के लिए शरद पवार मौजूद थे​|​ इस दौरान उन्होंने पूरे मामले पर अपना पक्ष रखा​|​

Google News Follow

Related

दिल्ली में पिछले कुछ दिनों से सियासी माहौल गरमाया हुआ है|13 दिसंबर को दो युवक लोकसभा में घुस गए। इसके बाद विपक्षी दल के सांसदों ने मांग की कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह संसद के दोनों सदनों में बयान दें|इन सांसदों के दुर्व्यवहार के आरोप में अब तक दोनों सदनों में विपक्षी दलों के 143 सांसदों को निलंबित किया जा चुका है। इस तरह के व्यवहार के विरोध में आज दिल्ली में विपक्षी दलों के मार्च में हिस्सा लेने के लिए शरद पवार मौजूद थे|इस दौरान उन्होंने पूरे मामले पर अपना पक्ष रखा|

“यह सदन का अधिकार है”: शरद पवार ने इस समय एक सुझावपूर्ण बयान दिया उन्होंने कहा कि लोकसभा में घुसपैठ करने वाला युवा लोकसभा में कैसे पहुंच गया? कौन पास हुआ? सरकार की ओर से बयान की जरूरत थी| यह सदन का अधिकार है| हमने वह बयान मांगा, लेकिन सरकार इसे देने को तैयार नहीं थी| हमने जिद की तो नतीजा सस्पेंड हो गया| आज तक सदन में इस तरह की बात नहीं हुई| मुझे विधानसभा या संसद में काम करते हुए 56 साल हो गए हैं| मैं इस तरह से कुछ भी कभी नहीं देखा है। विरोधियों की भी कुछ जिम्मेदारियां होती हैं| विपक्ष को नजरअंदाज कर सरकार अपने तरीके से शासन चलाने की कोशिश कर रही है,लेकिन देश की जनता ये सब देख रही है| मुझे विश्वास है कि देश की जनता सही समय पर इसकी भारी कीमत वसूल करेगी’।

‘इतने सारे सांसदों को सस्पेंड करना ठीक नहीं’: शरद पवार ने यह भी कहा कि उन्हें बिलों पर बहस पसंद नहीं है। अगर कोई विधेयक या कानून सदन के सामने आता है और आप विपक्ष को अपनी बात रखने का मौका दिए बिना उसे पारित कर देते हैं तो यह ठीक नहीं है। यह संसदीय लोकतंत्र का अपमान है,जो कुछ हुआ वो संसद के इतिहास में आज तक नहीं हुआ|इस सरकार ने वो काम किया है| मुझे विश्वास है कि देश की जनता उन्हें सही समय पर सबक सिखाएगी।

कल्याण बनर्जी का व्यवहार सही है या ग़लत?: इस बीच, तृणमूल सांसद कल्याण बनर्जी ने राज्यसभा के पदेन अध्यक्ष और देश के उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ की नकल की, जबकि कुछ सांसद निलंबन के बाद संसद परिसर में विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। इसके चलते सत्ताधारियों ने आक्रामक रुख अपना लिया है और खुद धनखड़ ने नाराजगी जताते हुए कहा है कि ”यह जाट समुदाय का अपमान है|” शरद पवार ने इस पर सख्त असहमति जताई है|
“अगर कोई सभागार के बाहर कुछ भी करता है…”: क्या वे (सदस्यों का रूप धारण करके) सदन में थे? यह हॉल के बाहर हुआ| मान लीजिए कि अब मैं यहां कुछ करता हूं तो क्या इसकी जिम्मेदारी मेरी पार्टी या नेता पर होगी? हॉल के बाहर कोई कुछ करेगा तो उसकी खूब चर्चा हो सकती है, लेकिन इस मामले को यहां तक ले जाना अनुचित है| अगर मेरे ख़िलाफ़ कुछ हो तो कहना, ‘मैं मराठा हूं, किसान हूं| मेरा यह कहना गलत है कि यह मराठों और किसानों का अपमान है”, शरद पवार ने उपराष्ट्रपति के बयान पर असहमति जताई|
यह भी पढ़ें-

फिर बढ़ी टेंशन…कोरोना के नए वेरिएंट की एंट्री; महाराष्ट्र में कहां..!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,640फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
148,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें