26 C
Mumbai
Sunday, February 25, 2024
होमन्यूज़ अपडेटराज्य विधानमंडल सत्र : नागपुर के विधानमंडल सत्र से क्या हासिल हुआ?

राज्य विधानमंडल सत्र : नागपुर के विधानमंडल सत्र से क्या हासिल हुआ?

वास्तविक सत्र के दौरान पूरी सरकार के नागपुर में रहने और विदर्भ के विभिन्न मुद्दों को प्राथमिकता देने की उम्मीद है। पहले, मुख्यमंत्री या मंत्री सप्ताहांत और छुट्टियों पर विदर्भ का दौरा करते थे और लोगों से बातचीत करते थे। हाल ही में छुट्टियों के बाद मुंबई या निर्वाचन क्षेत्रों में अधिक दौरे चल रहे हैं।

Google News Follow

Related

नागपुर समझौते के अनुसार, एक वर्ष में राज्य विधानमंडल का एक सत्र नागपुर में आयोजित करने के प्रावधान को औपचारिक रूप दिया गया। नागपुर में सत्र के आखिरी दिन विदर्भ मुद्दे पर चर्चा होना दिखाता है कि सत्ता पक्ष और विपक्ष विदर्भ मुद्दे पर कितने गंभीर हैं​| नागपुर में दो सप्ताह के सम्मेलन को हाल ही में औपचारिक रूप दिया गया है। वास्तविक सत्र के दौरान पूरी सरकार के नागपुर में रहने और विदर्भ के विभिन्न मुद्दों को प्राथमिकता देने की उम्मीद है। पहले, मुख्यमंत्री या मंत्री सप्ताहांत और छुट्टियों पर विदर्भ का दौरा करते थे और लोगों से बातचीत करते थे। हाल ही में छुट्टियों के बाद मुंबई या निर्वाचन क्षेत्रों में अधिक दौरे चल रहे हैं।

मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने दो सप्ताहांत छुट्टी लेकर नागपुर में रुकने के बजाय दो रविवार मुंबई में सफाई अभियान में हिस्सा लिया| मुख्यमंत्री कभी भी मुंबई में स्वच्छता अभियान में हिस्सा ले सकते थे, लेकिन मुख्यमंत्री को विदर्भ दौरे से ज्यादा मुंबई की अहमियत महसूस हुई होगी| नागपुर संधि में नागपुर में वर्ष में एक सत्र आयोजित करने का प्रावधान है। मूल विचार नागपुर के सत्र में नागपुर और विदर्भ के महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा करना था। लेकिन बुधवार को खत्म हुए दस दिवसीय सत्र में आखिरी दिन विदर्भ मुद्दे पर चर्चा हुई| सम्मेलन के आखिरी दिन किसी ने भी काम के प्रति ज्यादा उत्साह नहीं दिखाई दिया है| मंत्री और विधायक अपने-अपने क्षेत्र में लौटने की जल्दी में हैं| आखिरी दिन विदर्भ के मुद्दों पर चर्चा कर किन मुद्दों का समाधान निकला ?

बेमौसम बारिश से हुए नुकसान या मराठा आरक्षण की चर्चा स्वाभाविक थी,लेकिन साथ ही विदर्भ के मुद्दों को प्राथमिकता देना भी उतना ही महत्वपूर्ण था। लेकिन न तो सत्ता पक्ष और न ही विपक्ष को विदर्भ मुद्दे पर बहस करने में दिलचस्पी होनी चाहिए। सत्र खत्म होने के बाद सत्ता पक्ष और विपक्ष ने एक-दूसरे पर विदर्भ के मुद्दों को ज्यादा तूल नहीं देने का आरोप लगाया| उपमुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने विदर्भ मुद्दे पर संक्षिप्त चर्चा के लिए विपक्ष को जिम्मेदार ठहराया, लेकिन क्या फडणवीस के भाजपा विधायकों ने विदर्भ मुद्दे पर चर्चा की पहल की?

संसद हो या राज्य विधानमंडल का सत्र, राजनीतिक चर्चा जनता के मुद्दों या विधायकों के पक्ष-विपक्ष की चर्चा से अधिक होने लगी है।विपक्ष द्वारा शासकों पर और शासकों द्वारा विपक्ष पर आरोप लगाने से अधिक समय बर्बाद होता है।सत्र के दौरान भ्रम की स्थिति के कारण विधानसभा में एक भी मिनट का समय बर्बाद नहीं करने के लिए सत्तारूढ़ दल ने अपनी पीठ थपथपाई, लेकिन उसे जवाब देना चाहिए था कि लोगों से जुड़े गहरे मुद्दों पर कितनी चर्चा हुई।

आखिरी दिन मुख्यमंत्री शिंदे के अंतिम सप्ताह के प्रस्ताव पर चर्चा में ज्यादा समय मुंबई महानगरपालिका के कामकाज पर चर्चा में बीता| उम्मीद है कि मुख्यमंत्री राज्य के सामने आने वाले मुद्दों और राज्य को कैसे आगे बढ़ाया जाए, इसके बारे में जानकारी देंगे। हालांकि उन्हें मुख्यमंत्री पद संभाले हुए डेढ़ साल हो गए हैं, लेकिन अभी भी उनकी ठाकरे की आलोचना करने की आदत नहीं गई है| शीतकालीन सत्र की अवधि लगातार कम होती जा रही थी. इस वर्ष भी सत्र तीन सप्ताह के लिए आयोजित किया गया, लेकिन वास्तविक कामकाज केवल दस दिन ही चला। गुरुवार को ही सत्र शुरू करना और बुधवार को सत्र स्थगित करना दर्शाता है कि सत्ता पक्ष कितना गंभीर था|

यह भी पढ़ें-

फिर बढ़ी टेंशन…कोरोना के नए वेरिएंट की एंट्री; महाराष्ट्र में कहां..!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,758फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें