28 C
Mumbai
Saturday, March 2, 2024
होमन्यूज़ अपडेटआईपीएल 2024: पंड्या की मुंबई इंडियंस में वापसी पर मनसे ने कसा...

आईपीएल 2024: पंड्या की मुंबई इंडियंस में वापसी पर मनसे ने कसा तंज !

पिछले कुछ वर्षों में मुंबई के कई उद्योग गुजरात में स्थानांतरित हो गए हैं। साथ ही, मुंबई और महाराष्ट्र में लगने वाले ज्यादातर उद्योग गुजरात चले गए हैं। इन दोनों बातों का जिक्र करते हुए मनसे ने राज्य सरकार को चुनौती दी है|

Google News Follow

Related

इंडियन प्रीमियर लीग 2024 के लिए खिलाड़ियों की नीलामी से पहले आईपीएल ने सभी खिलाड़ियों के लिए ट्रेड विंडो शुरू कर दी है| इस विंडो के जरिए मुंबई इंडियंस ने गुजरात टाइटंस के कप्तान हार्दिक पांड्या को अपनी टीम में लिया है| दो साल पहले मुंबई से गुजरात चले गए इस खिलाड़ी को मुंबई टीम प्रबंधन वापस ले आया है।आईपीएल के इस सबसे बड़े घटनाक्रम पर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने महाराष्ट्र सरकार को चुनौती दी है| पिछले कुछ वर्षों में मुंबई के कई उद्योग गुजरात में स्थानांतरित हो गए हैं। साथ ही, मुंबई और महाराष्ट्र में लगने वाले ज्यादातर उद्योग गुजरात चले गए हैं। इन दोनों बातों का जिक्र करते हुए मनसे ने राज्य सरकार को चुनौती दी है|
महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म एक्स पर एक पोस्ट किया है| इसमें उन्होंने कहा है कि अगर महाराष्ट्र के शासकों ने अपना स्वाभिमान नीलाम नहीं किया होता तो उद्योगों को राज्य से भगाया नहीं जा सकता था और फिर महाराष्ट्र के हर कोने में उद्योगों का ‘जोरदार’ स्वागत किया जा सकता था| यदि सेना को अच्छी तरह से आपूर्ति की जाती है और मजबूती से रखा जाता है, तो नुकसान की भरपाई की जा सकती है, बस इच्छाशक्ति की आवश्यकता है। फिर भी!
मनसे की पूर्व पोस्ट का क्या मतलब है?: जैसे आईपीएल में खिलाड़ियों की नीलामी होती है, अगर महाराष्ट्र के शासकों ने अपना स्वाभिमान नीलाम नहीं किया होता, तो हमारे राज्य में मौजूदा और आने वाले उद्योग गुजरात में नहीं जाते। यदि महाराष्ट्र के नेता अपनी बात पर अड़े रहते तो हमारे उद्योग हमारे राज्य में ही बने रहते।साथ ही हमारे राज्य में नये उद्योग भी आये होंगे. जैसे ही मुंबई ने हार्दिक पंड्या को अपनी टीम में लाने की कोशिश की, उन्होंने गुजरात टाइटंस से बातचीत की और हार्दिक को वापस ले लिया। साथ ही हमारे शासक उद्योगों को पुनः प्राप्त कर सकते थे। इसके लिए हमें अपने शासकों में मुंबई इंडियंस जैसी इच्छाशक्ति की आवश्यकता है।

दुकानों पर मराठी बोर्ड से एमएनएस तोला: उधर, एमएनएस ने एक और एक्स लगा दिया है। इसमें कहा गया है कि महाराष्ट्र के बाजार का उपयोग करें| सड़कें यहां, पानी यहां, बिजली यहां| यहां सुरक्षित वातावरण में व्यापार करें, मुनाफा कमाएं लेकिन यहां मराठी भाषा को गौण स्थान दें या कोई स्थान न दें| एक मराठी व्यक्ति इसे क्यों बर्दाश्त करेगा यह? महाराष्ट्र में सबसे पहले मराठी होनी चाहिए|

यह भी पढ़ें-

“…सूखा प्रभावित तालुकाओं को मदद नहीं मिलेगी”, रोहित पवार ने सरकार की आलोचना की!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,738फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
133,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें