33 C
Mumbai
Sunday, February 25, 2024
होमन्यूज़ अपडेटपार्टी निर्माण के लिए उपमुख्यमंत्री अजित पवार की हालिया सोलापुर यात्रा !

पार्टी निर्माण के लिए उपमुख्यमंत्री अजित पवार की हालिया सोलापुर यात्रा !

सोलापुर जिले के पूर्व कट्टर राष्ट्रवादी वरिष्ठ नेता विजयसिंह मोहिते-पाटिल अपने परिवार के साथ सीधे भाजपा में शामिल हो गए।नतीजा यह हुआ कि एनसीपी का किला ढह गया और पार्टी टूट गई|नतीजतन, अब समय आ गया है कि शरद पवार गुट अपना अस्तित्व तलाशे|

Google News Follow

Related

एनसीपी में बड़े विभाजन और अजीत पवार के नेतृत्व में एक स्वतंत्र समूह के गठन के बाद, राज्य में राजनीतिक समीकरण बदल गए।सोलापुर जिले के पूर्व कट्टर राष्ट्रवादी वरिष्ठ नेता विजयसिंह मोहिते-पाटिल अपने परिवार के साथ सीधे भाजपा में शामिल हो गए।नतीजा यह हुआ कि एनसीपी का किला ढह गया और पार्टी टूट गई|नतीजतन, अब समय आ गया है कि शरद पवार गुट अपना अस्तित्व तलाशे|

जब अजित पवार भाजपा के साथ महागठबंधन को समर्थन देकर सत्ता में आए तो माधा के शुगर किंग, वरिष्ठ विधायक बबनराव शिंदे और उनके भाई, करमाला के निर्दलीय विधायक संजय शिंदे और मोहोल के विधायक यशवंत माने, तीनों अजित पवार के वफादार हो गए|इसके अलावा मोहोल के पूर्व विधायक राजन पाटील-अंगरकर, सांगोला के पूर्व विधान परिषद सदस्य दीपक सालुंखे, नरखेड़ के उमेश पाटिल सहित अधिकांश मंडली सरकार में शामिल होने के लिए आगे आए| 

जिले के ग्रामीण इलाकों में, शरद पवार समूह के पास केवल कुछ ही वफादार हैं जैसे जिला परिषद के पूर्व अध्यक्ष बलिराम साठे, पंढरपुर के विट्ठल सहकारी चीनी कारखाने के अध्यक्ष अभिजीत पाटिल और माढ़ा के संजय पाटिल-घाटनेकर। ऐसा देखा जा रहा है कि ग्रामीण इलाकों की तुलना में सोलापुर शहर में अजित पवार गुट शरद पवार गुट को तोड़ने के लिए आगे बढ़ गया है| 

पार्टी निर्माण के लिए उपमुख्यमंत्री अजित पवार की हालिया सोलापुर यात्रा को इसी नजरिये से देखा जा रहा है| सार्वजनिक सड़कों, कई चौराहों पर लगाए गए डिजिटल स्वागत बोर्ड और विज्ञापन, पार्टी समारोहों में शहर में जगह-जगह देखा गया।

राष्ट्रवादी पार्टी में विभाजन के बाद उपमुख्यमंत्री बनने के बाद अपने समूह के प्रदेश अध्यक्ष सुनील तटकरे के साथ अजित पवार की सोलापुर की यह पहली पूर्णकालिक यात्रा थी। अजित पवार ने पार्टी के शहर और जिला ग्रामीण कार्यालयों का उद्घाटन किया. कुछ लोग अंदर आ गए|कभी सोलापुर गैंगवार में आतंक मचाने वाले कर्नाटक के पूर्व विधायक रवि पाटिल भी चर्चा का विषय बने थे| 

यह भी पढ़ें-

वंशवाद पर पीएम मोदी ने अमित शाह और राजनाथ सिंह को दी क्लीन चिट !.

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,757फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें