26 C
Mumbai
Sunday, February 25, 2024
होमदेश दुनियामणिपुर: मैतेई विद्रोही समूह ने छोड़े हथियार, शांति समझौते पर हस्ताक्षर, खत्म...

मणिपुर: मैतेई विद्रोही समूह ने छोड़े हथियार, शांति समझौते पर हस्ताक्षर, खत्म होगी हिंसा?

मणिपुर के सबसे पुराने सशस्त्र विद्रोही समूह यूनाइटेड नेशनल लिबरेशन फ्रंट (यूएनएलएफ) ने हिंसा का रास्ता छोड़कर मुख्यधारा में शामिल होने का फैसला किया है। संगठन ने हथियार डाल दिए हैं और शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं​|​

Google News Follow

Related

मणिपुर के सबसे पुराने सशस्त्र विद्रोही समूह यूनाइटेड नेशनल लिबरेशन फ्रंट (यूएनएलएफ) ने हिंसा का रास्ता छोड़कर मुख्यधारा में शामिल होने का फैसला किया है। संगठन ने हथियार डाल दिए हैं और शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं|केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अपने माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म एक्स पर इसकी जानकारी दी है|

इस घटना का वर्णन करते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि हमने एक ऐतिहासिक मील का पत्थर पार कर लिया है|यूएनएलएफ ने आज नई दिल्ली में एक शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए जो पूर्वोत्तर में स्थायी शांति लाएगा। मोदी सरकार के प्रयासों को बड़ी सफलता मिली है|अमित शाह ने कहा है कि मणिपुर घाटी के सबसे पुराने सशस्त्र समूह यूएनएलएफ ने हिंसा का रास्ता छोड़कर मुख्यधारा में आने का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया है|मैं लोकतांत्रिक प्रक्रिया में लौटने के लिए उनका स्वागत करता हूं। उनकी शांति और प्रगति की कामना करता हूं।

अमित शाह ने एक अन्य एक्स पोस्ट में कहा है कि भारत सरकार और मणिपुर राज्य सरकार ने यूएनएलएफ के साथ शांति समझौता किया है|यह शांति अधिनियम छह दशकों के सशस्त्र संघर्ष के अंत और एक नई शुरुआत का प्रतीक है। यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की समावेशी नीति, समावेशी विकास की दृष्टि और पूर्वोत्तर भारत के युवाओं को बेहतर भविष्य प्रदान करने के खुले अभियान की एक बड़ी उपलब्धि है।

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने हाल ही में यूएनएलएफ समेत कई उग्रवादी और नक्सली संगठनों पर प्रतिबंध लगा दिया था|इस प्रतिबंध के कुछ ही दिनों के भीतर, यूएनएलएफ ने अपने हथियार डाल दिए और शांति समझौते पर सहमति व्यक्त की। इस संगठन पर मणिपुर में सुरक्षा बलों, पुलिस और नागरिकों पर हमला करने और कई हत्याओं को अंजाम देने का आरोप लगाया गया है।

संगठन को भारत की संप्रभुता और अखंडता को कमजोर करने वाली गतिविधियों में शामिल होने के कारण केंद्र सरकार द्वारा प्रतिबंधित कर दिया गया था। यूएनएलएफ मणिपुर का सबसे पुराना मैतेई विद्रोही समूह है। इस ग्रुप का गठन 24 नवंबर 1964 को हुआ था|
 
​यह भी पढ़ें-

‘हम कोई साधु-संत नहीं हैं, कई साल…’, कर्जत की जनसभा में अजित पवार का बयान​ ​!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,758फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें