26 C
Mumbai
Tuesday, July 16, 2024
होमन्यूज़ अपडेटमराठा आरक्षण : 14 दिनों​ से आमरण अनशन,​ चिकित्सीय परीक्षण से भी...

मराठा आरक्षण : 14 दिनों​ से आमरण अनशन,​ चिकित्सीय परीक्षण से भी ​किया इनकार​ ! ​

मराठा समुदाय को 'कुनबी' के रूप में जाति प्रमाण पत्र दिए जाने की मांग को लेकर मनोज जरांगे पाटिल जालना जिले में पिछले 14 दिनों से भूख हड़ताल पर हैं| वे अपनी भूख हड़ताल जारी रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं, भले ही सरकार उनसे भूख हड़ताल वापस लेने का आग्रह कर रही है।

Google News Follow

Related

मराठा समुदाय को ‘कुनबी’ के रूप में जाति प्रमाण पत्र दिए जाने की मांग को लेकर मनोज जरांगे पाटिल जालना जिले में पिछले 14 दिनों से भूख हड़ताल पर हैं| वे अपनी भूख हड़ताल जारी रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं, भले ही सरकार उनसे भूख हड़ताल वापस लेने का आग्रह कर रही है। इस बीच, कल (10 सितंबर) से जरांगे पाटिल ने पानी और दवा छोड़ दी है और चिकित्सा परीक्षण का भी विरोध किया है। इससे उनके स्वास्थ्य पर असर पड़ा है| इस सारी पृष्ठभूमि पर उनकी जांच करने गए डॉक्टर ने प्रतिक्रिया दी है|
 
​मराठा आरक्षण के लिए मनोज जरांगे पाटिल की आमरण अनशन: मराठा समुदाय के आंदोलनकारी मनोज जारांगे पाटिल महाराष्ट्र में मराठा समुदाय के लिए तत्काल आरक्षण और मराठवाड़ा में मराठा समुदाय के लिए कुनबी जाति प्रमाण पत्र की मांग को लेकर 29 अगस्त से भूख हड़ताल पर हैं। आज व्रत का 14वां दिन है| पिछले 14 दिनों में कई चीजें हुई हैं| 1 सितंबर को मराठा समुदाय के शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया|
​इस लाठीचार्ज का असर पूरे महाराष्ट्र में हुआ| इस लाठी-डंडे से मराठा समाज और अधिक भड़क गया। साथ ही इससे मनोज जरांगे पाटिल द्वारा शुरू की गया आमरण अनशन को भी बल मिला| कई नेता और नेता उनके अनशन स्थल पर मिलने पहुंचे| मराठा समुदाय का समर्थन भी दिन-ब-दिन बढ़ता गया। इस अवधि के दौरान, सरकार ने जालना में जरांगे के साथ चर्चा करने के लिए तीन बार अपना प्रतिनिधिमंडल भेजा। हालांकि, उन्होंने कड़ा रुख अपनाया कि अगर सरकार जीआर जारी नहीं करेगी तो वे पीछे नहीं हटेंगे|
सरकार ने जीआर जारी नहीं किया तो भूख हड़ताल पर अड़े: जरांगे पाटिलके कड़े रुख को देखते हुए सरकार ने भी तुरंत आदेश जारी किया और निज़ाम के दौरान कुनबी रिकॉर्ड रखने वाले मराठा समुदाय के उत्तराधिकारियों को कुनबी प्रमाण पत्र जारी करने के लिए जीआर जारी किया। इस जीआर के बाद भी सरकार की राय थी कि जरांगे पाटिल अपना अनशन वापस ले लेंगे|हालांकि जरांगे पाटिल इस मांग पर अड़े रहे कि जीआर से वंशावली शब्द को हटाया जाए और वहां समान शब्द डाला जाए|
क्योंकि सरकार की ओर से जारी किए गए जीआर से मराठा समुदाय को कोई फायदा नहीं होगा, ये कहकर वे अपनी मांग पर अड़ गए|इसके बाद मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस, अजित पवार समेत कई नेताओं ने मराठा समाज के प्रतिनिधिमंडल के साथ डेढ़ से दो घंटे तक बैठक की|ऐसा लग रहा था कि इस बैठक में भी कोई समाधान निकलेगा|​  हालांकि, जारंग पटल को भेजे गये बंद लिफाफे में भी उनकी मांग नहीं मानी गयी|इसलिए जरांगे पाटिल ने अपना अनशन जारी रखा है|
अल्टीमेटम के बाद दवा-पानी छोड़ रहे: इस बीच, मनोज जरांगे पाटिल ने सरकार को चार दिन का अल्टीमेटम दिया था|सरकार ने चार दिनों के भीतर मांगें पूरी नहीं होने पर पानी और दवा त्यागने की धमकी दी थी|चार दिन का अल्टीमेटम खत्म होने के बाद भी जब सरकार ने उनकी मांगें नहीं मानी तो उन्होंने कल से पानी भी बंद कर दिया है|
साथ ही उन्होंने दवा लेने से भी इनकार कर दिया है और डॉक्टर द्वारा लगाया गया सेलाइन भी हटा दिया गया है|इतना ही नहीं उन्होंने डॉक्टर की जांच का भी विरोध किया है|उनकी जांच के लिए डॉक्टरों को अनशन स्थल पर भर्ती कराया गया है|हालाँकि, उन्होंने जाँच का कड़ा विरोध किया। इसलिए कल (10 सितंबर) से उनकी चिकित्सकीय जांच नहीं की गई है|डॉक्टरों ने जानकारी दी है कि 14 दिनों के उपवास, पानी से इनकार करने, दवा लेने से इनकार करने और चिकित्सा परीक्षण का विरोध करने के बाद जरांगे पाटिल की हालत खराब हो गई।
डॉक्टर ने क्या कहा?: “कल जांच हुई थी। उसके बाद हम जांच नहीं कर सके|हम उनसे मेडिकल जांच का अनुरोध करते हैं।’ आज सुबह की टीम ने भी अनुरोध किया, लेकिन उन्होंने जांच से इनकार कर दिया”, उनकी जांच करने आई मेडिकल टीम के डॉ. ने कहा।
​“कल से पानी भी नहीं पिया. शरीर में पानी का स्तर कम होने का सीधा संबंध ब्लड शुगर लेवल से होता है। इससे पता चलता है कि उनकी हालत कैसी है| चूंकि कोई मेडिकल जांच नहीं हुई है, इसलिए हम उनकी स्थिति के बारे में नहीं कह सकते,लेकिन ब्लड शुगर, ब्लड प्रेशर निम्न स्तर पर है”, डॉक्टर ने बताया। कल तक उनका रक्तचाप 110 और रक्त शर्करा 100 से नीचे था। चूँकि वे नहीं खा रहे हैं, स्तर नीचे जा रहा है। अच्छा है कि वे बैठे नहीं हैं| डॉक्टर ने ये भी कहा कि बैठने से कैलोरी ज्यादा खर्च होती है|
सर्वदलीय बैठक आज: मराठा आरक्षण आंदोलन का दायरा बढ़ता देख मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने आज यानी सोमवार को सर्वदलीय नेताओं की बैठक आयोजित की है|इस बैठक में सभी पार्टी नेताओं को मराठा आरक्षण को लेकर सरकार के प्रयासों की जानकारी दी जाएगी और उनके जरिए मनोज जारांगे की भूख हड़ताल खत्म कराने की कोशिश की जाएगी|सभी की निगाहें इस पर हैं कि विपक्षी दलों के नेता और जरांगे इस बैठक पर क्या प्रतिक्रिया देते हैं​|
​यह भी पढ़ें-

ठाणे में 40 मंजिला इमारत से गिरी लिफ्ट, 7 मजदूरों की मौत, कई अस्पताल में       

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,507फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें