28 C
Mumbai
Sunday, June 16, 2024
होमदेश दुनियाइंडिया या एनडीए? मायावती ने स्पष्ट किया, कहा, "बिल्कुल 2007 की तरह...!"

इंडिया या एनडीए? मायावती ने स्पष्ट किया, कहा, “बिल्कुल 2007 की तरह…!”

लोकसभा चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश में सत्ता संरेखण महत्वपूर्ण है। तो उत्तर प्रदेश में विपक्षी गठबंधन को कितना समर्थन मिलता है? इसने राजनीतिक हलकों का ध्यान खींचा है| इसी पृष्ठभूमि में अब उत्तर प्रदेश की अहम विपक्षी पार्टी बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने अपनी स्थिति स्पष्ट कर दी है|

Google News Follow

Related

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी को हराने के लिए देश की 26 विपक्षी पार्टियों ने मिलकर I.N.D.I.A का गठन किया है। बेशक भारत अघाड़ी की स्थापना हो चुकी है| इस गठबंधन में कांग्रेस, ठाकरे ग्रुप, तृणमूल समेत कई बड़ी और प्रमुख विपक्षी पार्टियां शामिल हैं|लोकसभा चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश में सत्ता संरेखण महत्वपूर्ण है। तो उत्तर प्रदेश में विपक्षी गठबंधन को कितना समर्थन मिलता है? इसने राजनीतिक हलकों का ध्यान खींचा है| इसी पृष्ठभूमि में अब उत्तर प्रदेश की अहम विपक्षी पार्टी बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने अपनी स्थिति स्पष्ट कर दी है|

मध्य प्रदेश की दूसरी प्रमुख विपक्षी पार्टी सपा पहले ही अखिल भारतीय गठबंधन में शामिल होने के अपने फैसले की घोषणा कर चुकी है। जबकि कांग्रेस भी इस गठबंधन में थी, केवल बसपा ही स्पष्ट रुख बताने के लिए बची थी| अब इस संबंध में मायावती ने ट्विटर के जरिए अपनी स्थिति साफ कर दी है और अगला राजनीतिक कदम कैसा होगा, इस पर स्पष्ट नीति सामने रखी है|
“फर्जी खबरें न फैलाएं”: “एनडीए और भारत गठबंधन में अधिकांश दल गरीब विरोधी, सांप्रदायिक, सांप्रदायिक, अमीर समर्थक हैं। इन्हीं नीतियों के खिलाफ बसपा कई वर्षों से संघर्ष कर रही है। इसलिए इस गठबंधन में शामिल होकर चुनाव लड़ने का सवाल ही नहीं उठता| इसलिए मीडिया को फर्जी खबरें नहीं फैलानी चाहिए”, मायावती ने अपने ट्वीट में बताया।

अपने दम पर लड़ेगी लोकसभा: इस बीच एक ओर जहां ‘इंडिया’ में भाग लेने से इनकार करते हुए भाजपा की मदद करने के लिए मायावती की आलोचना की गई हालांकि, मायावती ने साफ कर दिया है कि वह आगामी लोकसभा चुनाव अपने दम पर लड़ेंगी| ट्वीट में कहा गया, ”वह आगामी लोकसभा और चार राज्यों के विधानसभा चुनाव 2007 की तरह अपने गठबंधन के साथ अकेले ही लड़ेंगे और समाज में हाशिये पर पड़े करोड़ों लोगों को विपक्ष की बाजीगरी के बजाय भाईचारे के आधार पर जोड़ेंगे।”

“हर कोई बसपा में शामिल होने को इच्छुक है। लेकिन अगर आप ऐसा नहीं करेंगे तो आप पर भाजपा से हाथ मिलाने का आरोप लगाया जाएगा| यदि आप उनसे हाथ मिलाते हैं तो आप धर्मनिरपेक्ष हैं और यदि नहीं जोड़ते हैं तो आप भाजपा समर्थक हैं। यह पूरी तरह से गलत है”, इस ट्वीट में मायावती ने कहा।

इस बीच, मायावती द्वारा अपनी स्थिति स्पष्ट करने के बाद अब यह तस्वीर सामने आई है कि उत्तर प्रदेश में विपक्षी गठबंधन को भाजपा और बीएसपी के साथ-साथ भारत छोटे-छोटे पार्टियों  से भी चुनौती मिलेगी|
यह भी पढ़ें-

इस साल सावन में दो पूर्णिमा, जाने कब है रक्षाबंधन का मुहूर्त ?     

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,562फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
161,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें