34 C
Mumbai
Tuesday, April 16, 2024
होमदेश दुनियादूसरे चुनाव में मंत्री, तीसरे में सीधे मुख्यमंत्री, कौन हैं मोहन यादव?

दूसरे चुनाव में मंत्री, तीसरे में सीधे मुख्यमंत्री, कौन हैं मोहन यादव?

इस बैठक में शिवराज सिंह चौहान ने मोहन यादव के नाम का प्रस्ताव रखा| भाजपा विधायकों द्वारा उस प्रस्ताव को मंजूरी दिए जाने के साथ ही मोहन यादव मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री होंगे| मोहन यादव 2013 में पहली बार विधायक बने| इसके बाद वह दस साल में मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठेंगे| 

Google News Follow

Related

आठ दिन की चर्चा के बाद आखिरकार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री की घोषणा हो गई| भाजपा ने शिवराज सिंह चौहान की जगह मुख्यमंत्री के तौर पर नया चेहरा दिया है|मोहन यादव अब मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री होंगे|भाजपा के विधायक दल का नेता तय करने के लिए आज बैठक हुई|इस बैठक में शिवराज सिंह चौहान ने मोहन यादव के नाम का प्रस्ताव रखा| भाजपा विधायकों द्वारा उस प्रस्ताव को मंजूरी दिए जाने के साथ ही मोहन यादव मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री होंगे| मोहन यादव 2013 में पहली बार विधायक बने| इसके बाद वह दस साल में मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठेंगे|

मोहन यादव उज्जैन दक्षिण से तीसरी बार विधायक चुने गये हैं| मोहन यादव राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के करीबी माने जाते हैं| मोहन यादव शिवराज सिंह चौहान की कैबिनेट में काम कर चुके हैं| मोहन यादव शिवराज सिंह चौहान की कैबिनेट में शिक्षा मंत्री रह चुके हैं| मोहन यादव 2020 से 2023 तक शिक्षा मंत्री रह चुके हैं.मोहन यादव पहली बार 2013 में विधायक चुने गए थे| 10 साल और तीसरी पारी में मोहन यादव ने मुख्यमंत्री बनने का गौरव हासिल किया है|

शिवराज सिंह चौहान का आशीर्वाद: डाॅ. मोहन यादव के नाम की घोषणा की गई| उस समय मोहन यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का आशीर्वाद लिया था| शिवराज सिंह ने भी प्यार से उनके सिर पर हाथ रखकर आशीर्वाद दिया| मोहन यादव मध्य प्रदेश में भाजपा का बड़ा ओबीसी चेहरा हैं|चर्चा है कि भाजपा ने 2024 के लोकसभा चुनाव को देखते हुए उनके नाम का ऐलान किया है|मोहन यादव की शैक्षणिक योग्यता पीएचडी है। 2020 में उन्हें शिक्षा मंत्री की जिम्मेदारी दी गई|वह 2023 तक मुख्यमंत्री पद तक पहुंच गये हैं|
कैसा रहा राजनीतिक सफर?: 58 साल के मोहन यादव का राजनीतिक डेब्यू 1984 में हुआ था। वह 1984 में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े। मोहन यादव राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लिए भी काम कर चुके हैं| वे टीम के करीबी माने जाते हैं| 2013 में मोहन यादव ने उज्जैन दक्षिण से चुनाव लड़ा था| इसके बाद वह तीसरी बार विधायक चुने गये हैं| मोहन यादव ने कांग्रेस के चेतन प्रेमनारायण को 12941 वोटों से हराया| मोहन यादव को 95699 वोट मिले|
डॉ. मोहन यादव दिग्गज भाजपा नेता: डॉ. मोहन यादव के नाम की घोषणा होते ही उज्जैन में खुशी छा गई। मोहन यादव का नाम मुख्यमंत्री पद की दौड़ में नहीं था, इसलिए उनके नाम की घोषणा होने पर उज्जैनकर में ख़ुशी व्याप्त है। मोहन यादव भाजपा के अनुभवी नेता हैं| वह 1984 से भाजपा के लिए काम कर रहे हैं| मोहन यादव 2004 से 2010 तक उज्जैन विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष रहे। जबकि 2011 से 2013 के बीच वह मप्र राज्य पर्यटन विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष रहे।
यह भी पढ़ें-

शरद पवार की चेतावनी, ‘मोदी सरकार किसानों को लेकर सतर्क रुख अपनाए…’!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,646फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
147,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें