30 C
Mumbai
Wednesday, July 17, 2024
होमधर्म संस्कृतिमुंबई में छठ पूजा पर विवाद बढ़ा, राजनीतिक पार्टियां आमने-सामने; वास्तव में...

मुंबई में छठ पूजा पर विवाद बढ़ा, राजनीतिक पार्टियां आमने-सामने; वास्तव में क्या हुआ?

नगर निगम प्रशासन द्वारा कांदिवली में छठ पूजा की इजाजत देने से इनकार करने के बाद मुंबई कांग्रेस इस मामले में आक्रामक हो गई है|कांग्रेस इस बात पर अड़ी है कि हम हर साल की तरह इसी जगह पर छठ पूजा का आयोजन करेंगे| इससे छठ पूजा विवाद गरमाने की आशंका है|

Google News Follow

Related

छठ पूजा का पावन पर्व कल से शुरू हो रहा है|मुंबई में भी कई जगहों पर छठ पूजा का आयोजन किया जाता है|छठ पूजा के दिन जुहू चौपाटी के साथ-साथ शहर की अन्य चौपाटी पर भी भीड़ रहती है। हालांकि, इसी छठ पूजा को लेकर मुंबई में विवाद खड़ा हो गया है|छठ पूजा की योजना को लेकर कांग्रेस और भाजपा आमने-सामने हो गई हैं|नगर निगम प्रशासन द्वारा कांदिवली में छठ पूजा की इजाजत देने से इनकार करने के बाद मुंबई कांग्रेस इस मामले में आक्रामक हो गई है|कांग्रेस इस बात पर अड़ी है कि हम हर साल की तरह इसी जगह पर छठ पूजा का आयोजन करेंगे| इससे छठ पूजा विवाद गरमाने की आशंका है|
राजपाट सेवा मंडल द्वारा आयोजित छठ पूजा का आयोजन कांदिवली के लोखंडवाला इलाके में कई वर्षों से किया जाता रहा है| इस पूजा का आयोजन महाराणा प्रताप उद्यान में किया जाता है| आयोजन पूर्व कांग्रेस पार्षद राजपत और अनीता यादव ने किया। श्रद्धालुओं को पूजा करने के लिए दूर समुद्र तट पर न जाना पड़े, इसके लिए उन्होंने इस पार्क में सात छठ कुंड बनाए हैं। उन्होंने इस साल भी छठ पूजा आयोजित करने के लिए नगर पालिका से अनुमति मांगी थी| छह नवंबर को जब नगर पालिका ने उन्हें अनुमति दे दी तो उन्होंने नगर पालिका को एक लाख रुपये जमा राशि का भुगतान भी कर दिया था।
अचानक नहीं दी गई अनुमति: छठ पूजा के लिए राजपाट मंडल को अनुमति देने के बाद नगर निगम ने पूजा के लिए अचानक अनुमति देने से इनकार कर दिया गया। मिली जानकारी के मुताबिक नगर निगम प्रशासन इस जगह पर एक कार्यक्रम आयोजित करना चाहता है| इस मामले में मुंबई प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने प्रशासन की आलोचना की है और कई सवाल उठाए हैं|
 
लड़ाई जारी रहेगी: कांग्रेस मुंबई अध्यक्ष वर्षा गायकवाड़ ने इस सब पर प्रतिक्रिया दी है|हम पिछले 12 वर्षों से कांदिवली में छठ पूजा का आयोजन कर रहे हैं। लेकिन इस साल हमें अनुमति नहीं दी गई|इसके खिलाफ हमारी लड़ाई जारी रहेगी|हमने इस संबंध में वार्ड अधिकारी को पत्र लिखा है|उन्हें बार-बार कॉल कर रहे हैं,लेकिन कोई ठोस जवाब नहीं दिया गया|यह लोकतांत्रिक मूल्यों का हनन है|उन्होंने कहा, हम इसकी निंदा करते हैं।
यह भी पढ़ें-

PM Modi की सुरक्षा में चूक, गाडी के सामने आई अचानक महिला 

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,505फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें