27 C
Mumbai
Sunday, June 23, 2024
होमदेश दुनियाPM मोदी ने अफ्रीकी संघ को शामिल करके जी20 के विस्तार का...

PM मोदी ने अफ्रीकी संघ को शामिल करके जी20 के विस्तार का प्रस्ताव रखा

G20 एक अंतरराष्ट्रीय मंच है जो दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं को एक साथ लाता है। यह आर्थिक नीतियों पर चर्चा और समन्वय के लिए जिम्मेदार है।

Google News Follow

Related

प्रशांत कारुलकर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अफ्रीकी संघ (एयू) को स्थायी सदस्य के रूप में शामिल करने के लिए जी 20 के विस्तार का प्रस्ताव दिया है। G20 एक अंतरराष्ट्रीय मंच है जो दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं को एक साथ लाता है। यह आर्थिक नीतियों पर चर्चा और समन्वय के लिए जिम्मेदार है।

एयू 55 अफ्रीकी देशों का एक महाद्वीपीय संघ है। इसकी स्थापना 2002 में महाद्वीप पर आर्थिक एकीकरण, राजनीतिक सहयोग और सामाजिक प्रगति को बढ़ावा देने के लिए की गई थी।

एयू को जी 20 में शामिल करने का मोदी का प्रस्ताव एक महत्वपूर्ण विकास है। यह अफ़्रीकी महाद्वीप को वैश्विक आर्थिक निर्णय लेने में एक बड़ी आवाज़ देगा। इससे अफ़्रीका के सामने ग़रीबी, भुखमरी और जलवायु परिवर्तन जैसी चुनौतियों से निपटने में भी मदद मिलेगी।

पीएम मोदी  का प्रस्ताव उनकी “सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास” की नीति के अनुरूप है।  इस नीति का उद्देश्य समावेशी विकास को बढ़ावा देना और भारत और अन्य देशों के बीच विश्वास पैदा करना है।

जी 20 में एयू को शामिल करना इन लक्ष्यों को प्राप्त करने की दिशा में एक बड़ा कदम होगा।  इससे यह सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी कि अफ्रीकी देशों की आवाज़ वैश्विक मंचों पर सुनी जाए और उनकी जरूरतों को ध्यान में रखा जाए।

इस प्रस्ताव का एयू और कई अफ्रीकी देशों ने स्वागत किया है। वे इसे अफ़्रीका के महत्व और वैश्विक विकास में योगदान देने की महाद्वीप की क्षमता की मान्यता के रूप में देखते हैं।

वैश्विक अर्थव्यवस्था, जलवायु परिवर्तन और आतंकवाद सहित कई मुद्दों पर चर्चा करने के लिए जी20 नेता 9-10 सितंबर को दिल्ली में मिलेंगे। एयू को जी20 में शामिल करने का मोदी का प्रस्ताव शिखर सम्मेलन में चर्चा का एक प्रमुख विषय होने की संभावना है।

 अफ्रीकी संघ क्यों महत्वपूर्ण है?

अफ़्रीकी संघ कई कारणों से महत्वपूर्ण है।  सबसे पहले, यह दुनिया में सबसे बड़ा और सबसे अधिक आबादी वाला महाद्वीपीय संघ है, जिसमें 55 सदस्य देश और 1.3 अरब से अधिक लोगों की आबादी है।

दूसरा, एयू वैश्विक अर्थव्यवस्था में एक प्रमुख खिलाड़ी है, जिसकी संयुक्त जीडीपी 3 ट्रिलियन डॉलर से अधिक है।

तीसरा, एयू महाद्वीप पर शांति और सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है, और इसने सूडान, माली और दक्षिण सूडान जैसे देशों में संघर्षों को हल करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

चौथा, एयू महाद्वीप पर सतत विकास को बढ़ावा देने के लिए काम कर रहा है, और गरीबी, भूख और जलवायु परिवर्तन जैसे मुद्दों के समाधान के लिए कई पहल की है।

पीएम मोदी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास की नीति पर कैसे काम कर रहे हैं?

मोदी की “सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास” की नीति उनकी विदेश नीति में परिलक्षित होती है। उन्होंने अपने पड़ोसियों और विकासशील दुनिया के अन्य देशों के साथ भारत के संबंधों को मजबूत करने को प्राथमिकता दी है। उन्होंने बहुपक्षवाद को बढ़ावा देने और वैश्विक मुद्दों पर आम सहमति बनाने के लिए भी काम किया है।

पीएम मोदी  अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास की अपनी नीति पर जिन तरीकों से काम कर रहे हैं उनमें शामिल हैं:

– 2023 में दिल्ली में G20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी, जो पहली बार होगा कि शिखर सम्मेलन भारत में आयोजित किया गया है।

– अफ़्रीकी संघ को शामिल करने के लिए G20 के विस्तार का प्रस्ताव।

– अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन की स्थापना, सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध देशों का एक गठबंधन।

– जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए अन्य देशों के साथ काम करना।

– जरूरतमंद देशों को विकास सहायता प्रदान करना।

प्रधानमंत्री मोदी का सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास की नीति अंतरराष्ट्रीय संबंधों के प्रति एक सकारात्मक और दूरदर्शी दृष्टिकोण है। यह इस विश्वास पर आधारित है कि वैश्विक शांति और समृद्धि प्राप्त करने के लिए सहयोग और विश्वास आवश्यक है।

ये भी पढ़ें 

 

G20 Summit 2023 : PM मोदी, राष्ट्रपति बाइडेन की द्विपक्षीय वार्ता

CM शिंदे का राजस्थान दौरा,क्या “लाल डायरी” वाले राजेंद्र गुढ़ा शिवसेना के साथ होगें?         

त्रिमूर्ति का कमाल! जिस काम में लगते 47 साल, उसे भारत ने 6 साल में किया    

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,539फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
162,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें