29 C
Mumbai
Saturday, February 24, 2024
होमन्यूज़ अपडेटचुनावी खर्चों को पूरा करने के लिए टमाटर की कमी का गंभीर...

चुनावी खर्चों को पूरा करने के लिए टमाटर की कमी का गंभीर आरोप-प्रकाश अंबेडकर

प्रकाश अंबेडकर ने कहा, हमें आरएसएस-भाजपा की 10 साल की सत्ता का हिसाब-किताब शुरू करना चाहिए|जब व्यापारियों और सरकार की मिलीभगत हुई तो टमाटर की कमी हो गई, दाम बढ़ा दिए गए और चुनाव का खर्चा निकाल लिया गया और दाम फिर गिर गए|सरकार ने इस देश में टमाटर का घाटा पैदा करके 35 हजार करोड़ रुपये लूटे हैं।

Google News Follow

Related

वंचित बहुजन आघाडी के अध्यक्ष प्रकाश अंबेडकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत भाजपा और आरएसएस की आलोचना की| उन्होंने 35,000 करोड़ रुपये की लूट का आरोप लगाते हुए कहा, हमें आरएसएस-भाजपा शासन के 10 वर्षों का हिसाब-किताब शुरू करना चाहिए। वे वंचित के सांगली में ‘बिजली अधिग्रहण बैठक’ में बोल रहे थे।
प्रकाश अंबेडकर ने कहा, हमें आरएसएस-भाजपा की 10 साल की सत्ता का हिसाब-किताब शुरू करना चाहिए|जब व्यापारियों और सरकार की मिलीभगत हुई तो टमाटर की कमी हो गई, दाम बढ़ा दिए गए और चुनाव का खर्चा निकाल लिया गया और दाम फिर गिर गए|सरकार ने इस देश में टमाटर का घाटा पैदा करके 35 हजार करोड़ रुपये लूटे हैं।

“टमाटर की कमी पैदा कर सरकार ने लुटाए 35 हजार करोड़”: इस देश में टमाटर की कमी से लुटे 35 हजार करोड़ रुपए हम इस मुद्दे पर भाजपा-आरएसएस से चर्चा के लिए तैयार हैं| यह लुटेरों की सरकार है| अब इनसे छुटकारा पाओ. उन्हें सत्ता में वापस लाने की कोई जरूरत नहीं है, ”प्रकाश अंबेडकर ने आरोप लगाया।

 
“मोदी पत्रकारों से डरते हैं, क्योंकि…” : प्रकाश अंबेडकर ने आगे कहा, नरेंद्र मोदी एक लोकतांत्रिक प्रधानमंत्री नहीं, बल्कि एक तानाशाह हैं। लोकसभा चुनाव तक वह एक भी प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं करेंगे| मोदी पत्रकारों के सामने जाकर जवाब देने से डरते हैं| मोदी पत्रकारों से डरते हैं, क्योंकि पत्रकार उनसे ज्यादा होशियार हैं। वह बहुत डरपोक प्रधानमंत्री हैं| उनके नाम पर केवल 56 इंच का सीना है।
‘पिछले 10 साल में कारगिल युद्ध से ज्यादा सैनिक शहीद’: ‘पिछले दस साल में हमारे हजारों सैनिक शहीद हुए हैं। कारगिल युद्ध में भी इतने जवान शहीद नहीं हुए थे|यह भाजपा-आरएसएस सरकार के दौरान हुआ, ”प्रकाश अंबेडकर ने आरोप लगाया। अंबेडकर ने नागरिकों द्वारा भारतीय नागरिकता छोड़ने के मुद्दे पर भी टिप्पणी की। उन्होंने कहा, “1950 से 2014 की अवधि के दौरान 7,644 हिंदू परिवार ऐसे हैं जिन्होंने भारतीय नागरिकता छोड़ दी और विदेशी नागरिकता ले ली। 2014 और 2023 के बीच, कम से कम 50 लाख रुपये की संपत्ति वाले 1.4 लाख परिवारों ने भारतीय नागरिकता छोड़ दी और विदेशी नागरिकता स्वीकार कर ली। वो कह रहे हैं हिंदू राष्ट्र बनाओ, तुम्हारी जान पर|
 
“…तो 14 लाख लोगों ने छोड़ दी भारतीय नागरिकता”: हम इस मूर्ख निकम्मी सरकार का अनुसरण नहीं करना चाहते। हम अपने पूर्वजों की स्मृति को सहेजना चाहते हैं|तो विदेश गए भारतीयों का कहना है कि हमने अपनी नागरिकता छोड़ दी| भाजपा ने इन 14 लाख लोगों को गुमनामी में रहने का समय दे दिया है|अभी तक हमने चुनाव के जरिए सत्ता में भागीदारी की कोशिश नहीं की है, लेकिन इस चुनाव में हम सत्ता में आए बिना सत्ता में नहीं रहेंगे,अंबेडकर ने यह भी कहा। इस अवसर पर वंचित बहुजन आघाडी के प्रवक्ता इम्तियाज नदाफ, प्रदेश उपाध्यक्ष दिशा पिंकी शेख, प्रदेश उपाध्यक्ष सोमनाथ सालुंखे, संतोष सूर्यवंशी सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे|
यह भी पढ़ें-

गठबंधन किया लेकिन पार्टी के विचार नहीं छोड़े- अजित पवार

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,759फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें