30 C
Mumbai
Sunday, February 25, 2024
होमदेश दुनियापरिसीमन के बाद बदल गया जम्मू कश्मीर का पूरा समीकरण, जाने क्या...

परिसीमन के बाद बदल गया जम्मू कश्मीर का पूरा समीकरण, जाने क्या है गणित?            

जम्मू कश्मीर विधानसभा में 111 सीटें होती थी जो परिसीमन के बाद 114 हो गई। 

Google News Follow

Related

अमित शाह ने बुधवार को लोकसभा में जम्मू कश्मीर से जुड़े दो बिल को पेश किया। जिसमें एक जम्मू कश्मीर पुनर्गठन संशोधन बिल 2023 और दूसरा जम्मू कश्मीर आरक्षण संशोधन विधेयक 2023 पर चर्चा हुई। इसके साथ ही उन्होंने परिसीमन के बाद विधानसभा सीटों का भी ऐलान किया। जहां उन्होंने कहा कि सात दशक से जिन लोगों पर अन्याय हुआ, उन्हें अपमानित किया गया और अनदेखी की गई ,उन्हें यह बिल न्याय दिलाएगा। उन्होंने कहा कि पहले जम्मू कश्मीर विधानसभा में 107 सीटें होती थी जो परिसीमन के बाद 114 हो गई।

चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर के लोगों की पीएम मोदी ने आंसू पोछने का काम किया। जिस तरह से 70 सैलून से जम्मू कश्मीर के लोग ठोकरें खा रहे थे और उनकी अनदेखी की गई  उन भाई बहनों को न्याय दिलाने के लिए दो सीट आरक्षित की गई है। पीओके  से आये लोगों के लिए भी आरक्षण का प्रावधान है। उन्होंने कहा कि जो कमजोर हैं उनको पिछड़ा वर्ग वाला संवैधानिक शब्द दिया गया है।

परिसीमन के बाद जम्मू कश्मीर में सीटों में बड़ा बदलाव हुआ है। जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने से पहले  जम्मू में 37 सीटें थी जो अब 43 हो गई हैं। वहीं कश्मीर में 46 सीटें थी जो अब 47 हो गई है। पीओके के लिए पहले एक भी सीट नहीं थी अब 24 सीटें आरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि यह ऐसा इसलिये किया गया है कि पीओके हमारा है। जबकि एसटी के लिए भी पहले कोई आरक्षित सीट नहीं थी अब 9 सीटें आरक्षित की गई है। कश्मीर विस्थपितों के लिए भी दो सीटों का प्रावधान है। जिसमें एक महिला प्रतिनिधित्व जरुरी है। पहले ऐसी कोई भी व्यवस्था नहीं थी।  पीओके के विस्थापितों के लिए इस बार एक सीट की व्यवस्था की गई है। नामांकितों के लिए पहले दो सीटें थी अब उसे बढ़ाकर 5 कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें

निफ्टी ईटीएफ का दक्षिण कोरियाई रेलवे स्टेशन पर विज्ञापन, भारत के बढ़ते वैश्विक कद का प्रतीक    

भगवान राम की बाल रूप प्रतिमा तैयार, जाने कितनी है मूर्ति की ऊंचाई ?     

​​शीतकालीन सत्र 2023: नवाब मलिक अजित पवार​ गुट में!,’….सत्तारूढ़ पर विश्वास’!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,756फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें