28 C
Mumbai
Wednesday, February 28, 2024
होमन्यूज़ अपडेटशीतकालीन सत्र: उद्धव के बारे में बात करते हुए नीलम गोरे ने...

शीतकालीन सत्र: उद्धव के बारे में बात करते हुए नीलम गोरे ने जमकर की आलोचना!

विधान परिषद की उपसभापति नीलम गोरे ने विधानमंडल में आने पर मीडिया से बातचीत करते हुए शिवसेना उबाठा नेता उद्धव ठाकरे की जमकर आलोचना की|नीलम गोरे ने आरोप लगाया कि उद्धव ठाकरे ने कभी मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे का पक्ष नहीं सुना|

Google News Follow

Related

महाराष्ट्र विधानमंडल का शीतकालीन सत्र आज से शुरू हुआ है इस मौके पर सभी विधायक नागपुर स्थित विधानमंडल पहुंचे हैं| विधान परिषद की उपसभापति नीलम गोरे ने विधानमंडल में आने पर मीडिया से बातचीत करते हुए शिवसेना उबाठा नेता उद्धव ठाकरे की जमकर आलोचना की|नीलम गोरे ने आरोप लगाया कि उद्धव ठाकरे ने कभी मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे का पक्ष नहीं सुना|

उपसभापति नीलम गोरे ने कहा, ”अगर बालासाहेब ठाकरे होते तो शिवसेना विभाजित नहीं होती|सही पक्ष लेना और समय पर कार्रवाई करना बाला साहेब की पद्धति थी।हालांकि, यदि संबंधितों ने अनुशासन का पालन नहीं किया, तो सख्त होना उनका रवैया था।एकनाथ शिंदे के मामले में पार्टी ने उनसे कभी नहीं पूछाक्या हैं शिंदे के सवाल? विधायकों को फंड नहीं मिल रहा है, जिले के मुखिया की सीधी सी मांग थी कि कलेक्टर और जिला पुलिस अधीक्षक मिलें, लेकिन वह मांग भी पूरी नहीं हुई|उनका दबाव एकनाथ शिंदे और अन्य साथियों पर भी था|

एकनाथ शिंदे और विधायकों की कभी नहीं सुनी जाने का आरोप लगाते हुए गोरे ने कहा कि मैंने भी उद्धव ठाकरे से अनुरोध किया था कि आप विधायकों की जिलेवार बैठकें करें|कुछ नीतिगत निर्णयों के मामले में विधायकों को भी निर्णय की जानकारी दें, ताकि विधायकों का काम के प्रति विश्वास बढ़े​, लेकिन इस पर कुछ नहीं हुआ|तो अंततः ये चीजें उग्र हो गईं और विस्फोट हो गया। यही स्थिति है तो फिर यह कहना गलत होगा कि इस विस्फोट के लिए कोई दूसरा पक्ष जिम्मेदार है|अगर भीतर बेचैनी न होती तो किसी को ऐसा मौका न मिलता। लेकिन राजनीतिक रुख बदल गया था|मुझे लगता है कि अगर बाला साहेब होते तो सही समय पर राजनीतिक भूमिका के बारे में आगाह करते|
मेरी ओर से कोई पूर्वाग्रह नहीं है, मैं उनका पक्ष नहीं जानता…: एकनाथ शिंदे का समर्थन करने से पहले, मैंने व्हाट्सएप पर उद्धव ठाकरे को अपनी स्थिति के बारे में बताया था।उसके बाद एक बार उन्होंने मुझे फोन किया और कहा कि विधान परिषद में मेरी सिर्फ एक सीट बची है और वह आपके हॉल में है|मैंने उनसे कहा, वह कुर्सी हमेशा आपकी रहेगी।मैंने एकनाथ शिंदे से भी कहा कि मैं व्यक्तिगत तौर पर उद्धव ठाकरे की आलोचना नहीं करूंगी”, नीलम गोरे ने ​यह बात अपने एक इंटरव्यू में कहा था। उद्धव ठाकरे का साथ छोड़ने के बाद मेरा उनसे कोई मतभेद नहीं है|‘ उन्होंने कहा, लेकिन मुझे नहीं पता कि उनके पक्ष में क्या है।
​यह भी पढ़ें-

Telangana: रेवंत रेड्डी ने CM पद की ली शपथ, मंत्रिमंडल में एक भी मुस्लिम नहीं  

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,746फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
132,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें