32 C
Mumbai
Friday, March 1, 2024
होमन्यूज़ अपडेटमनोज जरांगे पाटिल ने विधायकों और सांसदों से भी आंदोलन में शामिल...

मनोज जरांगे पाटिल ने विधायकों और सांसदों से भी आंदोलन में शामिल होने की अपील की​!

इसी के तहत मराठा समुदाय के कई नेता मुंबई में प्रवेश कर चुके हैं​|​ इस पर आज मनोज जारंग ने टिप्पणी की है​|​ आज भूख हड़ताल का सातवां दिन है और मुख्यमंत्री ने आज उनसे फोन पर चर्चा की​|​ इस चर्चा से मनोज जरांगे ने अंतरवली सारती में पत्रकारों से बातचीत की​|​

Google News Follow

Related

मराठा समाज को आरक्षण दिलाने के लिए पूरा मराठा समाज सड़कों पर उतर आया है| मनोज जरांगे पाटिल ने विधायकों और सांसदों से भी इस आंदोलन में शामिल होने की अपील की है|जरांगे ने विधायकों व सांसदों से अपने हक में आरक्षण की मांग करने की अपील की थी|इसी के तहत मराठा समुदाय के कई नेता मुंबई में प्रवेश कर चुके हैं|इस पर आज मनोज जारंग ने टिप्पणी की है|आज भूख हड़ताल का सातवां दिन है और मुख्यमंत्री ने आज उनसे फोन पर चर्चा की|इस चर्चा से मनोज जरांगे ने अंतरवली सारती में पत्रकारों से बातचीत की|
​मनोज जरांगे ने कहा कि मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से फोन पर आरक्षण पर चर्चा हुई| अन्य कोई चर्चा नहीं हुई है| हमने उनसे साफ कह दिया कि हम रिकॉर्ड के मुताबिक आरक्षण लेने को तैयार नहीं हैं| उन्हें उस समिति की पहली रिपोर्ट स्वीकार करनी चाहिए और महाराष्ट्र में मराठा समुदाय को कुनबी प्रमाणपत्र देने का निर्णय लेना चाहिए। उसके लिए विशेष सत्र बुलाया जाना चाहिए|
जरांगे ने आगे कहा कि मैंने सभी विधायकों और सांसदों से अपील की थी कि आप सभी मुंबई और वहां अपनी आवाज उठाएं|गरीब लड़कियों के साथ खड़े रहें|कोई मराठा तुम्हें नहीं भूलेगा​,लेकिन मांग करते समय उन्हें बताया गया कि महाराष्ट्र टैक्स। विधायक अभी ज्यादातर घर पर नहीं हैं|इनमें से अधिकांश मुंबई चले गये हैं|मराठा समुदाय के लिए काम कर रहे हैं|मनोज जरांगे ने कहा कि मराठा समाज उनके योगदान को नहीं भूलेगा|
​मराठा समाज आपको कभी नहीं भूलेगा: “लेकिन, पता नहीं क्यों विधायक-खासदार इस्तीफा दे रहे हैं|मैं इस्तीफा देने के फायदे और नुकसान के बारे में नहीं जानता। लेकिन मैं सभी विधायकों-खासदारों से कहता हूं कि आप मुंबई में ही रहें|बिना आरक्षण के न जाएं|हम यहां से नहीं जा रहे हैं| सभी विधायकों-खासदारों, पूर्व मंत्रियों, नेताओं को एक विशाल समूह बनाना चाहिए|मंत्री और मुख्यमंत्री-उपमुख्यमंत्री का दरवाजा नहीं छोड़ना है| उनके पैर पकड़ कर उनका पीछा करो| मराठा आरक्षण के मुद्दे पर सरकार सत्र बुलाए| मनोज जरांगे ने यह भी वादा किया कि वह मराठा समुदाय को कभी नहीं भूलेंगे|
यह भी पढ़ें-

तेलंगाना में बीआरएस सांसद पर जानलेवा हमला, चुनाव प्रचार के दौरान पेट में मारा चाकू!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,742फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
132,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें