26 C
Mumbai
Sunday, February 25, 2024
होमधर्म संस्कृतिमुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी को मिला प्राण प्रतिष्ठा समारोह न्योता

मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी को मिला प्राण प्रतिष्ठा समारोह न्योता

5 अगस्त 2020 को राम मंदिर भूमिपूजन समारोह में भी शामिल होने के लिए उन्हें निमंत्रण भेजा गया था।

Google News Follow

Related

अयोध्या में राम मंदिर उद्घाटन और रामलला के प्राण प्रतिष्ठा की लोगों को बेसब्री से इंतजार है। 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा समारोह के लिए लोगों को न्योता भेजा जा रहा है। इसमें बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी को भी शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया है। यह निमंत्रण श्री राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा भेजा गया है। बता दें कि, पिछले दिनों जब पीएम मोदी एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन का उद्घाटन करने अयोध्या पहुंचे थे तो उन्होंने रोड शो किया था। इस दौरान अंसारी पीएम मोदी के ऊपर फूलों की बारिश की थी। 5 अगस्त 2020 को राम मंदिर भूमिपूजन समारोह में भी शामिल होने के लिए उन्हें निमंत्रण भेजा गया था।

गौरतलब है कि राम मंदिर भूमि विवाद मामले में इकबाल अंसारी के पिता हाशिम अंसारी वादी थे। उनके निधन के बाद इकबाल अंसारी ने इस मामले को कोर्ट में आगे बढ़ाया। 9 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट ने हिन्दू पक्ष में फैसला सुनाया। जबकि मुस्लिम समुदाय को मस्जिद बनाने के लिए सरकार को पांच एकड़ जमीन देने का आदेश दिया था। इस फैसले के तहत सरकारी ट्रस्ट गठित कर मंदिर निर्माण का आदेश दिया था। राम मंदिर के पहले चरण का काम पूरा होने को है। 22 जनवरी को रामलला का प्राण प्रतिष्ठा की जायेगी।

इस समारोह में लगभग 8000 लोगों आधिकारिक तौर पर बुलाये जाने की बात कही जा रही है। वर्तमान में अयोध्या का हर क्षेत्र को सजाया जा रहा है। यहां नए एयरपोर्ट का निर्माण किया गया है। जबकि नए तरीके से रेलवे स्टेशन का निर्माण किया गया। दोनों जगहों पर अंतर्राष्ट्रीय स्तर की सुविधा उपलब्ध है। मंदिर को नगर शैली में निर्मित किया जा रहा है। परिसर की लंबाई 380 फीट, 250 फीट चौड़ाई, 161 फीट ऊंचाई है। मंदिर की हर मंजिल 20 फीट ऊंची होगी। इसके साथ ही राम मंदिर में 392 स्तंभ होंगे और 44 द्वार होंगे।

राम मंदिर का डिजाइन गुजरात के रहने वाले चंद्रकांत सोमपुरा और आशीष सोमपुरा ने बनाई है। सोमपुरा परिवारकी 15 पीढ़ियां मंदिरों की डिजाइन पर काम कर रही हैं। 30 साल पहले राम मंदिर आंदोलन के दौरान चंद्रकांत सोमपुरा ने मंदिर का डिजाइन बनाया था। हालांकि बाद में इसमें बहुत कुछ बदलाव किया गया है।

ये भी पढ़ें

बंगाल में कानून व्यवस्था पर सवाल! ED अधिकारियों पर हमला, गाड़ियां तोड़ी

कांग्रेस विधायक सहित इनेलो नेता पर छापा: मिला कुबेर का खजाना, जाने सबकुछ!  

इलेक्ट्रिक कार से करें ‘रामलला’ का दर्शन! टाटा की यह कार अयोध्या में तैनात है!

रामराज्य का आदर्श: 22 जनवरी को ‘ड्राई डे’, मनेगा सुशासन सप्ताह

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,758फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें