26.9 C
Mumbai
Monday, February 26, 2024
होमबिजनेसभारत का निफ्टी 50 सर्वकालिक उच्च स्तर: पांच महीनों में सबसे अच्छा...

भारत का निफ्टी 50 सर्वकालिक उच्च स्तर: पांच महीनों में सबसे अच्छा सप्ताह

भारतीय बाजार के प्रमुख सूचकांक निफ्टी 50 ने शुक्रवार को एक नया रिकॉर्ड उच्च स्तर हासिल किया

Google News Follow

Related

प्रशांत कारुलकर

भारतीय बाजार के प्रमुख सूचकांक निफ्टी 50 ने शुक्रवार को एक नया रिकॉर्ड उच्च स्तर हासिल किया और मजबूत मैक्रोइकॉनॉमिक आंकड़ों के कारण पांच महीनों में अपना सर्वश्रेष्ठ सप्ताह दर्ज किया। ग्लोबल ब्याज दर के परिदृश्य में भी सुधार की उम्मीदों ने बाजार को सहारा दिया।

ब्लू-चिप निफ्टी 50 और बीएसई सेंसेक्स क्रमशः 2.39% और 2.29% बढ़ गए, जिसमें ऊर्जा शेयरों में तेजी रही। तेज आर्थिक विकास और नवंबर में फैक्ट्री ग्रोथ में तेजी ने घरेलू इक्विटी में तेजी को सहारा दिया। सभी 13 प्रमुख क्षेत्रों में सप्ताह के दौरान लाभ हुआ, जबकि अधिक घरेलू रूप से केंद्रित छोटे और मिड-कैप ने ब्लू-चिप्स पर अपनी बढ़त को बढ़ा दिया।

सैमको म्यूचुअल फंड के मुख्य निवेश अधिकारी उमेशकुमार मेहता ने कहा, “भारतीय बाजार एक स्वीट स्पॉट में हैं, जो विदेशी पूंजी की वापसी, मजबूत मैक्रोइकॉनॉमिक डेटा और अमेरिकी दर के परिदृश्य में आसानी सहित अन्य कारकों से प्रेरित हैं।” एफपीआई ने नवंबर में दो महीने की बिक्री लकीर को तोड़ते हुए 90 अरब रुपये (1.1 अरब डॉलर) के शेयर जोड़े।

दिन के अंत में, निफ्टी 50 इंडेक्स 0.67% बढ़कर रिकॉर्ड बंद 20,267.90 पर पहुंच गया, जबकि एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स 0.74% बढ़कर 67,481.19 पर पहुंच गया। सेंसेक्स 15 सितंबर, 2023 को रिकॉर्ड उच्च स्तर से 1% से भी कम दूर है।

व्यक्तिगत शेयरों में, हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स (एचआईएईई) में 12.1% की वृद्धि हुई, क्योंकि सरकार ने रक्षा क्षेत्र के लिए पूंजीगत व्यय में वृद्धि की घोषणा की। आईटीसी (आईटीसी.एनएसई) में 5.7% की वृद्धि हुई, क्योंकि उपभोक्ता खर्च बढ़ने की उम्मीदों ने इस स्टॉक को सहारा दिया।

 इस तेजी के पीछे कई कारक जिम्मेदार हैं, जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

मजबूत आर्थिक वृद्धि: भारत की अर्थव्यवस्था वर्तमान में दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। हाल ही में जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत की अर्थव्यवस्था ने दूसरी तिमाही में 8.2% की दर से वृद्धि की है। यह मजबूत वृद्धि निफ्टी 50 सूचकांक में तेजी को बढ़ावा देने में एक महत्वपूर्ण कारक है।

विदेशी निवेशकों की वापसी: पिछले कुछ महीनों में, विदेशी निवेशक भारतीय बाजारों में भारी मात्रा में निवेश कर रहे हैं। यह विदेशी पूंजी प्रवाह निफ्टी 50 सूचकांक में तेजी को और मजबूत कर रहा है।

कमजोर अमेरिकी डॉलर: अमेरिकी डॉलर के कमजोर होने से भी भारतीय बाजारों को समर्थन मिल रहा है। एक कमजोर डॉलर से भारतीय निर्यात अधिक प्रतिस्पर्धी हो जाते हैं, जिससे भारतीय कंपनियों के मुनाफे में वृद्धि होती है।

ब्याज दरों में अपेक्षित कमी: बाजार को उम्मीद है कि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) निकट भविष्य में ब्याज दरों में कटौती कर सकता है। ब्याज दरों में कमी से भारतीय कंपनियों के लिए उधार लेना सस्ता हो जाएगा, जिससे उनके मुनाफे में वृद्धि होगी।

निकट भविष्य में भारतीय बाजारों में तेजी बरकरार रहने की संभावना है, क्योंकि मजबूत आर्थिक विकास की उम्मीदें बनी हुई हैं और ग्लोबल ब्याज दरें कम रहने की उम्मीद है। हालांकि, निवेशकों को यह ध्यान रखना चाहिए कि बाजार में उतार-चढ़ाव हमेशा बना रहता है और अल्पकालिक सुधारों की संभावना हमेशा बनी रहती है।

भारतीय बाजारों में हाल ही में आई तेजी एक सकारात्मक संकेत है, लेकिन निवेशकों को सतर्क रहना चाहिए और अपने निवेश के जोखिमों को समझना चाहिए। निवेश करने से पहले, निवेशकों को अपना खुद का शोध करना चाहिए और केवल उन कंपनियों में निवेश करना चाहिए जिनके बारे में उन्हें भरोसा है।

ये भी पढ़ें

 

“कलयुग” के सुदामा को मिलेगा घर, भरपेट खाने के लिए अनाज…       

MP में घमासान,कांग्रेस ने कहा, होगा नया सबेरा, BJP बोली, EVM पर भी होगा सवाल           

मुख्यमंत्री शिंदे से वर्षा आवास पर मिलेंगे राज ठाकरे, क्या है असली वजह?

राजस्थान में CM पद के लिए गहलोत के बाद वसुंधरा,पायलट नहीं ये नेता है पसंद 

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,752फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
131,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें