26 C
Mumbai
Friday, February 23, 2024
होमब्लॉगनए भारत का नया कानून

नए भारत का नया कानून

इन बिल्स पर गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि प्रस्तावित कानूनों में आतंकवाद की स्पष्ट परिभाषा है, देशद्रोह को अपराध के रूप में खत्म किया गया है और "राज्य के खिलाफ अपराध" शीर्षक के तहत एक नया खंड शामिल किया गया है।

Google News Follow

Related

प्रशांत कारुलकर

बुधवार को लोकसभा में तीन बिल्स को पास कर दिया जो कि ब्रिटिश काल के दौरान बने दंड संहिताओं को बदल कर नए भारत के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। इन तीन बिल्स को पिछले हफ्ते गृह मंत्री अमित शाह ने प्रस्तुत किया था। इन पुनर्रचित बिल्स के नाम हैं – भारतीय न्याय (द्वितीय) संहिता, भारतीय नागरिक सुरक्षा (द्वितीय) संहिता और भारतीय साक्ष्य (द्वितीय) बिल। इसके साथ ही टेलीकम्युनिकेशन बिल, 2023 को भी पारित किया गया। इन तीन बिलों को अपनाने के बाद भारतीय दण्ड संहिता 1860, दण्ड प्रक्रिया संहिता 1898, और भारतीय साक्ष्य अधिनियम 1872 को स्थानांतरित किया जाएगा। यह तीन बिल्स भारतीय सोच पर आधारित एक न्याय तंत्र स्थापित करेंगे। मौजूदा कानून एक अपराध की सजा के लिए ब्रिटिश मानसिकता को दर्शाते हैं लेकिन न्याय नहीं कर पाते इसिलिए इन तीन बिलों को लागू करना जरूरी है।

तीन बिल्स जैसे कि भारतीय न्याय (द्वितीय) संहिता, भारतीय नागरिक सुरक्षा (द्वितीय), और भारतीय साक्ष्य (द्वितीय) संहिता को भारतीय दण्ड संहिता (IPC), दण्ड प्रक्रिया संहिता (CrPC), और भारतीय साक्ष्य अधिनियम की जगह लागू किया जाएगा।

इन बिल्स पर विचार-विमर्श के दौरान,गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि प्रस्तावित कानूनों में आतंकवाद की स्पष्ट परिभाषा है, देशद्रोह को अपराध के रूप में खत्म किया गया है और “राज्य के खिलाफ अपराध” शीर्षक के तहत एक नया खंड शामिल किया गया है।

योजना किए गए अपराधों में संगठित अपराध, आतंकवाद, और जाति, भाषा या व्यक्तिगत विश्वास के आधार पर पाँच या इससे अधिक व्यक्तियों द्वारा किए जाने वाले हत्या को शामिल किया गया है। इसके अलावा, इस नए कानून में मॉब लिंचिंग के अपराध के लिए फांसी की सजा का प्रावधान होगा। पिछले कानूनों के साथ सामान्य नागरिकों की सबसे बड़ी आपत्ति न्याय तंत्र की धीमी पद्धति थी। नए कानूनों के तहत, न्यायाधीश को सात दिनों में सुनवाई करनी होगी और अधिकतम १२० दिनों तक ही मुकदमा चलेगा। इस प्रावधान की वजह से आम आदमी को जल्दी से जल्दी न्याय मिलेगा। नागरिकों के वक्त और पैसे की बर्बादी भी बचेगी।

पुराने कानूनों में एक औपचारिकता मनोभाव था और नए कानून ‘भारतीय सोच’ के साथ मेल खाएंगे। तीन प्रस्तावित दण्ड संहिताएं भारतीय सोच पर आधारित न्याय तंत्र स्थापित करने का प्रयास करेंगी। हम ७५ वर्षों के स्वतंत्रता के बाद भी हर मेजेस्टी, ब्रिटिश किंगडम, द क्राउन, बैरिस्टर, रुलर जैसे अंग्रेज़ी शब्दों का उपयोग कर रहे हैं। यह शब्दों का उपयोग आज भी भारतीय लोकतंत्र को गुलामी मानसिकता में दिखाता है।

मोदीजी के नेतृत्व में, यह नए कानूनों में भारतीयता, भारतीय संविधान और लोगों की कल्याण को महत्वपूर्णता दी गई है। ये कानून संविधान की आत्मा में परिवर्तन किए जा रहे हैं। नए कानूनों के माध्यम से भारतीय संविधान के मूल्यों को बढ़ावा दे रहे हैं जो हमारी सांस्कृतिक और सामाजिक पहचान को मजबूती प्रदान करते हैं। इनमें लोगों के कल्याण की प्राथमिकता है और समृद्धि की दिशा में कदम उठाने का उत्साह है। नए कानूनों के माध्यम से भारतीय राष्ट्रीयता को और मजबूत बनाया जा रहा है। यह भारत को आगे बढ़ने में मदद करेगा और निश्चित तौर पर सार्वभौमिक समृद्धि की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

ये भी पढ़ें 

तेल का तूफान और वैश्विक राजनीति

युद्धों के बीच कैसे टिकी है भारतीय अर्थव्यवस्था?

भारत की औद्योगिक वृद्धि: केंद्र सरकार की अहम भूमिका

भारत और सीओपी-28

भाजपा की जीत का सूत्र

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,758फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें