34 C
Mumbai
Tuesday, May 21, 2024
होमदेश दुनियाभारत-मध्य पूर्व-यूरोप कनेक्टिविटी कॉरिडोर लॉन्च

भारत-मध्य पूर्व-यूरोप कनेक्टिविटी कॉरिडोर लॉन्च

भारत, मध्य पूर्व और यूरोप ने चीन की बेल्ट एंड रोड पहल का मुकाबला करने के लिए कनेक्टिविटी कॉरिडोर

Google News Follow

Related

प्रशांत कारुलकर

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान और यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन ने 9 सितंबर, 2023 को नई दिल्ली में जी20 शिखर सम्मेलन के मौके पर भारत-मध्य पूर्व-यूरोप कनेक्टिविटी कॉरिडोर का शुभारंभ किया।

यह मार्ग रेलवे, राजमार्ग, बंदरगाह और अन्य कनेक्टिविटी इंफ्रास्ट्रक्चर का एक प्रस्तावित नेटवर्क है जो भारत, मध्य पूर्व और यूरोप को जोड़ेगा। इसे तीन क्षेत्रों के बीच व्यापार और आर्थिक सहयोग को बढ़ावा देने और चीन की बेल्ट एंड रोड पहल के संभावित प्रतिकार के रूप में देखा जाता है। यह मार्ग अभी भी योजना के चरण में है, लेकिन प्रारंभिक योजनाओं में भारत और खाड़ी देशों के बीच रेल लिंक के साथ-साथ भारत और यूरोप के बीच एक राजमार्ग लिंक की आवश्यकता है।

इस मार्ग के शुभारंभ का संयुक्त राज्य अमेरिका और यूरोपीय संघ सहित कई देशों ने स्वागत किया। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने कहा कि यह प्रोजेक्ट “अधिक समृद्ध और सुरक्षित दुनिया बनाने में मदद करेगा।”

इस कनेक्टिविटी नेटवर्क से भारत को कई तरह से लाभ होने की उम्मीद है।  इससे मध्य पूर्व और यूरोप के साथ भारत के व्यापार को बढ़ावा मिलेगा, जो भारत के दो सबसे बड़े व्यापारिक भागीदार हैं। इससे भारत में नौकरियाँ पैदा करने और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने में भी मदद मिलेगी।

इस गलियारे से बाकी विश्व के साथ भारत की कनेक्टिविटी को बेहतर बनाने में भी मदद मिलने की उम्मीद है। इससे भारतीय वस्तुओं और सेवाओं के लिए मध्य पूर्व और यूरोप के बाजारों तक पहुंचना आसान हो जाएगा और इससे भारतीय व्यवसायों के लिए इन क्षेत्रों में निवेश करना भी आसान हो जाएगा।

भारत-मध्य पूर्व-यूरोप कनेक्टिविटी कॉरिडोर का शुभारंभ भारत की विदेश नीति में एक महत्वपूर्ण विकास है।  यह क्षेत्र में भारत के बढ़ते आर्थिक और राजनीतिक दबदबे का संकेत है, और यह भारत के लिए चीन से अपनी स्वतंत्रता का दावा करने का एक तरीका है।

यह मार्ग भारत के लिए स्वतंत्र और खुले हिंद-प्रशांत क्षेत्र के अपने दृष्टिकोण को बढ़ावा देने का एक तरीका भी है। इससे भारत को विविध क्षेत्रों में अन्य देशों से जुडने में मदद होगी और इससे क्षेत्र में व्यापार और आर्थिक सहयोग को बढ़ावा देने में भी मदद मिलेगी। भारत-मध्य पूर्व-यूरोप कनेक्टिविटी कॉरिडोर एक महत्वाकांक्षी परियोजना है, लेकिन इसमें भारत के लिए गेम-चेंजर बनने की क्षमता है।  यह भारत के व्यापार और आर्थिक विकास को बढ़ावा दे सकता है, बाकी दुनिया के साथ इसकी कनेक्टिविटी में सुधार कर सकता है और एक स्वतंत्र और खुले भारत-प्रशांत क्षेत्र के अपने दृष्टिकोण को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।

आर्थिक लाभ के अलावा, इस मार्ग से कई अन्य लाभ भी होने की उम्मीद है, जैसे:

– तीन क्षेत्रों के बीच सांस्कृतिक और शैक्षिक आदान-प्रदान में वृद्धि।

– सुरक्षा और आतंकवाद विरोध पर बेहतर सहयोग।

– परिवहन का पर्यावरणीय प्रभाव कम होना।

भारत-मध्य पूर्व-यूरोप कनेक्टिविटी कॉरिडोर एक प्रमुख उपक्रम है, लेकिन इसमें दुनिया की भलाई के लिए एक महत्वपूर्ण ताकत बनने की क्षमता है। मुंबईवासियों के लिए यह खास है क्योंकि इस कॉरिडोर में मुंबई भारत का मुख्य शहर होगा। इस मार्ग के निर्माण का पुरा श्रेय प्रधानमंत्री मोदीजी और उनकी टीम का है।

ये भी पढ़ें

सनातन विरोधियों पर बरसे कथावाचक प्रदीप मिश्रा, क्या वे डेंगू की औलाद हैं?  

कुष्ठ, HIV और डेंगू का भरपूर सुख दें प्रभु, साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने दिया “श्राफ”

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,601फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
154,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें