34 C
Mumbai
Tuesday, April 16, 2024
होमदेश दुनियाPM Modi ने ऐसा क्यों कहा? सुप्रीम कोर्ट कहता "श्रीकृष्ण ने किया...

PM Modi ने ऐसा क्यों कहा? सुप्रीम कोर्ट कहता “श्रीकृष्ण ने किया भ्रष्टाचार”    

पीएम मोदी ने कल्कि धाम मंदिर की नींव रखते हुए दान पर ली चुटकी  

Google News Follow

Related

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को उत्तर प्रदेश के संभल में कल्कि धाम मंदिर का शिलान्यास किया। शिलान्यास समारोह के दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और श्री कल्कि धाम निर्माण ट्रस्ट के अध्यक्ष आचार्य प्रमोद कृष्णम के साथ पूजा की।

इसके बाद आचार्य प्रमोद कृष्णम और पुजारियों ने पीएम मोदी को श्री कल्कि धाम मंदिर का प्रस्तावित मॉडल की जानकारी दिया। इस मौके पर पीएम मोदी ने मंदिर के एक मॉडल का भी अनावरण किया। शिलान्यास समारोह के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने एक सभा को संबोधित किया जहां उन्होंने चंदा पर चुटकी ली। उन्होंने इशारों -इशारों में कहा कि दान को भ्रष्टाचार समझा जा रहा है।

तो सुप्रीम कोर्ट फैसला देता भगवान कृष्ण ने भ्रष्टाचार किया
पीएम मोदी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि ”उन्होंने (आचार्य प्रमोद कृष्णम) ने कहा था कि हर किसी के पास देने के लिए कुछ न कुछ है, लेकिन मेरे पास कुछ नहीं है, मैं केवल अपनी भावनाएं व्यक्त कर सकता हूं। अच्छा हुआ कुछ दिया नहीं। आज समय बहुत बदल गया। आज के युग में सुदामा श्रीकृष्ण को चावल की पोटली देते और वीडियो वायरल हो जाता और इस पर सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दायर हो जाती। उन्होंने कहा आगे कहा कि और इस पर फैसला आ जाता कि भगवान श्रीकृष्ण को कुछ दिया गया है। भगवान कृष्ण भ्रष्टाचार कर रहे थे।

मंदिर बन रहे हैं तो कॉलेज भी बन रहे 
पीएम मोदी ने कहा कि अयोध्या में रामलला के विराजमान होने का अलौकिक अनुभव है। वह  पल आज भी भावुक कर देते हैं। उन्होंने कहा कि एक ओर धार्मिक तीर्थों का विकास हो रहा है तो शहरों में इंफ़्रा तैयार हो रहे हैं। मंदिर बन रहे हैं तो कॉलेज भी बन रहे हैं। विदेशी निवेश भी हो रहा है। समय का पहिया घूम चुका है।

मंदिर के निर्माण लगेगा 5 साल का समय
बता दें कि पीएम मोदी कांग्रेस से निष्कासित नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम के न्योते पर संभल  पहुंचे थे। इस समारोह में कई संत और धर्मगुरु और जानी मानी हस्तियां शामिल हुई थीं। कल्कि धाम का पूजन कार्य महाकाल के महात्मा ने वैदिक मंत्रों के साथ संपन्न कराया। मंदिर में दस गर्भगृह होंगे। जिसमें भगवान के दसों रूपों को रखा जाएगा। कल्कि धाम पांच एकड़ में बन रहा है साथ ही इसके निर्माण में 5 साल का समय लगेगा।

मंदिर निर्माण में गुलाबी पत्थरों का इस्तेमाल
इस मंदिर निर्माण राजस्थान के भरतपुर जिले में स्थित बंशी पहाड़पुर के गुलाबी पत्थरों से किया जाएगा।  गुजरात का सोमनाथ मंदिर और अयोध्या का राम मंदिर इसी गुलाबी पत्थर से बनाया गया है। कल्कि धाम का मंदिर 11 फीट ऊंचे चबूतरे पर होगा। इसके शिखर की ऊंचाई 180 फीट होगी ,जबकि मंदिर के निर्माण में कहीं भी लोहे या स्टील का इस्तेमाल नहीं होगा।

कौन हैं भगवान कल्कि? 
दरअसल, पौराणिक मान्यताओं में कहा गया है कि जब कलयुग में पाप चरम पर रहेगा तो भगवान विष्णु कल्कि के रूप में दसवें अवतार लेंगे जो दुष्टों का सर्वनाश करेंगे। मान्यताओं के अनुसार कलयुग 432000 साल का होगा। अभी कलयुग का पहला चरण चल रहा है। जब कलयुग का अंतिम चरण शुरू होगा तब भगवान कल्कि अवतरित होंगे। इस तरह से देखा जाए तो संभल में कल्कि धाम पहला मंदिर होगा जो उनके जन्म से पहले ही उनकी की मूर्ति होगी।

यह भी पढ़ें

कौन थे आचार्य विद्यासागर महाराज? जिन्होंने आजीवन त्यागा था नमक-फल

PM Modi ने आचार्य विद्यासागर महाराज के निधन पर जताया दुःख, कहा….   

झारखंड की सियासत में मचा तूफान, कांग्रेस विधायकों में नाराजगी !

असदुद्दीन ओवैसी की अपील, महाराष्ट्र से चार मुस्लिम सांसदों को लोकसभा में भेजें!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,646फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
147,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें