26 C
Mumbai
Sunday, February 25, 2024
होमदेश दुनियामोजाम्बिक की ओर से भारत की "तुअर दाल" की सप्लाई बाधित होने...

मोजाम्बिक की ओर से भारत की “तुअर दाल” की सप्लाई बाधित होने से मूल्यों वृद्धि की संभावना!

मोजाम्बिक भारत को दालों का सबसे बड़ा निर्यातक है। देश के कुल आयात का 40 प्रतिशत मोज़ाम्बिक से होता है। पिछले वित्त वर्ष में मोजाम्बिक से 4.60 लाख टन तुअर का आयात किया गया था| चालू वित्त वर्ष में अब तक करीब दो लाख टन का आयात हो चुका है। वैश्विक बाजार में हल्दी की उपलब्धता कम है।

Google News Follow

Related

भारत में तुअर दाल की कमी और दुनिया भर में तुअर दाल की कम उपलब्धता का फायदा उठाते हुए मोजाम्बिक ने भारत में तुअर दाल के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है। मोजाम्बिक अतिरिक्त लाभ के लिए भारत का ‘दाल दौरा’ करने की कोशिश कर रहा है। हालांकि अगले साल घरेलू बाजार में तुअर की कीमत में तेजी रहेगी, लेकिन कीमत में ज्यादा बढ़ोतरी की संभावना नहीं है। भारतीय दलहन एवं अनाज संघ के अध्यक्ष विमल कोठारी ने कहा कि मोजाम्बिक भारत को दालों का सबसे बड़ा निर्यातक है। देश के कुल आयात का 40 प्रतिशत मोज़ाम्बिक से होता है। पिछले वित्त वर्ष में मोजाम्बिक से 4.60 लाख टन तुअर का आयात किया गया था| चालू वित्त वर्ष में अब तक करीब दो लाख टन का आयात हो चुका है। वैश्विक बाजार में हल्दी की उपलब्धता कम है।
देश के खुदरा बाजार में तुअर दाल की कीमत 190 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गई है| इस कमी की स्थिति का फायदा उठाने के लिए मोज़ाम्बिक ने अपने तुअर निर्यात को कम कर दिया है। मोजाम्बिकन  सरकार के कुछ अधिकारियों और व्यापारियों ने केवल एक व्यापारी के माध्यम से निर्यात करना शुरू कर दिया है। वे बढ़ी हुई दर पर भारत में अरहर निर्यात करने की कोशिश कर रहे हैं।
अरहर में तेजी,लेकिन कीमतों में अत्यधिक बढ़ोतरी नहीं: इस साल देश में अरहर की खेती में गिरावट आई है। कम वर्षा, ओलावृष्टि, खराब मौसम जैसी प्राकृतिक आपदाओं के कारण तुअर के उत्पादन में कमी आने की संभावना है। दिसंबर माह में देश तुअर बाजार में आ जाएगा। म्यांमार में तुअर की कटाई भी शुरू हो गई है और संभावना है कि जनवरी महीने में म्यांमार तुअर देश के बाजार में आ जाएगी। इसके अलावा, मलावी, इथियोपिया आदि अफ्रीकी देशों से भी आयात करने की योजना है। इसलिए, अगर अगले साल भी रेट बढ़ोतरी जारी रहती है, तो भी तुअर की कीमत में अत्यधिक बढ़ोतरी की संभावना नहीं है। कुल वैश्विक उपलब्धता और घरेलू उत्पादन पूरे वर्ष सीमित रहने का अनुमान है।
दूसरे देशों से आयात का विकल्प हाल ही में बेमौसम बारिश के कारण हल्दी को भारी नुकसान हुआ है। इस साल देश में तुरी के उत्पादन में कमी आने की आशंका है| दुनिया भर के अन्य देशों में भी हल्दी का उत्पादन कम हुआ है। संभावित मूल्य वृद्धि को रोकने के लिए केंद्र सरकार किसानों से गारंटी मूल्य से अधिक दर यानी बाजार मूल्य पर तुअर खरीदकर स्टॉक कर रही है। अनुमान है कि अगले वर्ष तुरी की कमी रहेगी| जैसा कि मोजाम्बिक सरकार इस स्थिति से अवगत है, ऐसा प्रतीत होता है कि वे अतिरिक्त लाभ के लिए निर्यात को नियंत्रित कर रहे हैं। कृषि बाजार कीमतों के विशेषज्ञ श्रीकांत कुवालेकर ने बताया कि मालवा, म्यांमार, इथियोपिया से हल्दी आयात का विकल्प खुला है।
यह भी पढ़ें-

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ​ने​ कोलकाता की रैली ममता बनर्जी को ​दी चुनौती ​!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,758फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें