30 C
Mumbai
Friday, February 23, 2024
होमदेश दुनियाप्राण प्रतिष्ठा के समय मौजूद रहेंगे राम मंदिर का फैसला देने वाले...

प्राण प्रतिष्ठा के समय मौजूद रहेंगे राम मंदिर का फैसला देने वाले जज    

प्राण प्रतिष्ठा समारोह में नामी 50 जजों और वकीलों को भी आमंत्रित किया गया है

Google News Follow

Related

राम मंदिर के गर्भगृह में भगवान राम विराजमान हों गए हैं। कई अनुष्ठानों के साथ रामलला को गर्भगृह के आसान गुरुवार को विराजमान हुए। प्राण प्रतिष्ठा की तारीख अब नजदीक है, 22 जनवरी को पीएम मोदी के हाथों प्राण प्रतिष्ठा का कार्य सम्पन्न होगा। इस मौके पर अयोध्या में राम मंदिर से जुड़ा फैसला सुनाने वाली सुप्रीम कोर्ट की बेंच में शामिल पांच जज भी मौजूद रहेंगे।

गौरतलब है कि इस बेंच का नेतृत्व करने वाले तत्कालीन चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, पूर्व सीजेआई एसए बोबडे,मौजूदा सीजीआई डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण और एस अब्दुल नजीर शामिल होंगे जो पांच सदस्यीय बेंच के सदस्य थे। एक रिपोर्ट के अनुसार, प्राण प्रतिष्ठा समारोह में नामी 50 जजों और वकीलों को भी आमंत्रित किया गया है। गौरतलब है कि पांच जजों की बेंच का नेतृत्व तत्कालीन चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने किया था। इस बेंच 19 नवंबर 2019 को राम मंदिर पर अपना फैसला सुनाया था। अयोध्या की विवादित भूमि को कोर्ट के आदेश पर रामलला को दिया गया था, जबकि मुस्लिम पक्ष को मस्जिद बनाने के लिए 5 एकड़ की भूमि देने  का निर्देश दिया था।

हिन्दू पक्ष का दावा था कि अयोध्या में राम मंदिर तोड़कर बाबरी मस्जिद बनाई गई थी। यह वह जगह है जहाँ भगवान राम का जन्म हुआ था। ऐसे में हिन्दू पक्ष का दावा राम मंदिर वही पर बनना चाहिए। लंबी लड़ाई के बाद कोर्ट का फैसला आने के बाद अब यहां भव्य राम मंदिर बन रहा है।अब रामलला की प्राण प्रतिष्ठा 22 जनवरी को की जायेगी। पीएम मोदी इस कार्य के लिए खुद कठोर अनुष्ठान से गुजर रहे हैं। पीएम मोदी 11 दिन का विशेष अनुष्ठान कर रहें है, इस दौरान केवल वे नारियल का पानी ही पीते है और जमीन पर कंबल बिछाकर सोते हैं।

ये भी पढ़ें 

Ram Temple Ayodhya: राम मंदिर प्राणप्रतिष्ठा समारोह का लाइव प्रसारण कैसे और कहां देखें?

मनमोहक मुस्कान, हाथ में धनुष बाण, ऐसे हैं हमारे भगवान श्रीराम

जाने अयोध्या में कितने चार्टर्ड विमान होंगे लैंड, पांच राज्यों में होंगे पार्क

Ram Temple Ayodhya: राम मंदिर प्राणप्रतिष्ठा समारोह का लाइव प्रसारण कैसे और कहां देखें?

स्टालिन ने फिर उगला जहर! कहा- मस्जिद तोड़कर मंदिर बनाये जाने के पक्ष में नहीं     

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,760फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें