31 C
Mumbai
Sunday, May 19, 2024
होमदेश दुनियाकांग्रेस ने इजरायल पर क्यों लिया यू टर्न? पार्टी के लिए देश...

कांग्रेस ने इजरायल पर क्यों लिया यू टर्न? पार्टी के लिए देश से बड़ा वोट बैंक!      

कांग्रेस कार्यसमिति ने एक प्रस्ताव पारित किया है जिसमें कहा गया है कि बीते दो दिनों से मध्य और पूर्वी  में जारी हुई जंग में एक हजार लोग मारे गए हैं। कार्यसमिति अपने पुराने स्टैंड को दोहराती है।

Google News Follow

Related

कांग्रेस में हमास और इजरायल को लेकर जारी युद्ध में मतभेद नजर आ रहा है। इजरायल पर  हमास द्वारा हमला किये जाने के बाद कांग्रेस ने रविवार को निंदा की थी। लेकिन सोमवार को हुई कांग्रेस कार्य समिति (CWC) की बैठक में  फिलिस्तीन का समर्थन किया है। इसमें कांग्रेस ने फिलिस्तीन का समर्थन किया है लेकिन हमास द्वारा किये गए हमले की निंदा नहीं की गई।

गौरतलब है कि, कांग्रेस कार्यसमिति ने एक प्रस्ताव पारित किया है जिसमें कहा गया है कि बीते दो दिनों से मध्य और पूर्वी  में जारी हुई जंग में एक हजार लोग मारे गए हैं। कार्यसमिति अपने पुराने स्टैंड को दोहराती है। जिसके तहत हम फिलिस्तीन के लोगों को उनके जमीन पर हकों का समर्थन करते हैं। उनका हक है कि वे सम्मान और गरिमा के साथ जीवन जिएं। साथ ही कांग्रेस ने जंग रोकने की अपील की है और कहा है कि दोनों ओर से इस मुद्दे को बातचीत से सुलझाएं। सबसे बड़ी बात यह है कि कांग्रेस ने हमास के द्वारा किये गए हमले का विरोध नहीं किया है। अब ऐसे में सवाल उठता है कि यही कांग्रेस दो दिन पहले  इजरायल पर हमास द्वारा किये गए हमले की निंदा की थी।

दरअसल, कांग्रेस ने जयराम रमेश ने कहा था कि ” कांग्रेस हमास द्वारा किये गए बर्बर हमले की निंदा करती है। कांग्रेस यह हमेशा मानती है कि फिलिस्तीन के लोगों को उनका अधिकार बातचीत के जरिये से मिलना चाहिए। इसके लिए हिंसा का रास्ता ठीक नहीं है। ऐसे में अब सवाल यह कि आखिर दो दिन में ऐसा क्या हुआ कि कांग्रेस अपने बयान से पलट गई और फिलिस्तीन के समर्थन में उतर गई।  इसके पीछे की कहानी भी सामने आई है.

बताया जा रहा है कि जब कांग्रेस ने रविवार को इजरायल का समर्थन किया था। तब केरल कांग्रेस इकाई ने इसका विरोध किया था। केरल के नेताओं ने  कांग्रेस के इस बयान का विरोध किया था।  जिसके बाद  कांग्रेस को अपना स्टैंड बदला पड़ा। बताया जा रहा है कि केरल के कांग्रेस नेता रमेश चेन्निथला  कहा था कि यह गलत और पुराने से अलग है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का रुख इजरायल और फिलिस्तीन में “टू स्टेट ” का रहा है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि केरल में मुस्लिम आबादी ज्यादा होने की वजह से कांग्रेस ने अपना स्टैंड बदल दिया। साफ़ तौर कहा जा सकता है कि कांग्रेस देशहित ऊपर वोट को रखते हुए कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में फिलिस्तीन के समर्थन में प्रस्ताव पारित कर मुसलमान वोटों को खुश करने की कोशिश की गई है।
 

ये भी पढ़ें 

 

इजराइल-हमास युद्ध : घर में घुसकर दंपत्ति की हत्या, बच्चे हुए अनाथ; इजराइल में युद्ध का भयावह चेहरा

इज़राइल-हमास युद्ध​: आतंकवादियों ने बंधकों को मारने की ​ दी धमकी ​, नेतन्याहू ने कहा..​!

चुनाव की बात करना राहुल गांधी की बड़ी गलती; ​भाजपा​ ने कहा, ‘पहले ही मान ली हार’

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,602फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
153,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें