28 C
Mumbai
Sunday, September 17, 2023
होमदेश दुनियानाइजीरिया के राष्ट्रपति का स्वागत में ​प्र​स्तुत की गयी मराठी लावणी, नेटीजनों...

नाइजीरिया के राष्ट्रपति का स्वागत में ​प्र​स्तुत की गयी मराठी लावणी, नेटीजनों में रही चर्चा!

इस समय नई दिल्ली एयरपोर्ट पर टीनुबू के स्वागत के दृश्य इस समय वायरल हो रहे हैं। इस वीडियो के चर्चा में आने की खास वजह ये है कि इसमें टीनुबू के रिसेप्शन को मराठी लावणी के साथ पेश किया गया है| वीडियो को दूरदर्शन के आधिकारिक यूट्यूब अकाउंट पर शेयर किया गया था।

Google News Follow

Related

G20 Summit Marathi Lavni Vajle Ki Bara: नई दिल्ली में चल रहे G20 शिखर सम्मेलन के लिए दुनिया भर से पर्यटक भारत आ रहे हैं। इन मेहमानों के स्वागत के लिए भारतीय कला और संस्कृति को प्रदर्शित करने वाले विशेष कार्यक्रम भी आयोजित किए गए हैं। कल, 6 सितंबर को नाइजीरियाई राष्ट्रपति ‘बोला अहमद टीनुबू’ जी20 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए नई दिल्ली पहुंचे। इस समय नई दिल्ली एयरपोर्ट पर टीनुबू के स्वागत के दृश्य इस समय वायरल हो रहे हैं। इस वीडियो के चर्चा में आने की खास वजह ये है कि इसमें टीनुबू के रिसेप्शन को मराठी लावणी के साथ पेश किया गया है| वीडियो को दूरदर्शन के आधिकारिक यूट्यूब अकाउंट पर शेयर किया गया था।
हालांकि यह गर्व की बात है कि टीनुबू के स्वागत के लिए मराठी लावणी को प्राथमिकता दी गई, लेकिन गाने के चयन से नेटिज़न्स हैरान हैं। टीनुबू का स्वागत नटरंग फिल्म की लोकप्रिय धुन वजले की बारा पर नृत्य प्रस्तुत कर किया गया। लेकिन वास्तविक आगमन या घर पर घंटी बजने से नेटिज़न्स के बीच बहुत हंसी हुई। वीडियो में आप देख सकते हैं कि एयरपोर्ट के ही एक तरफ स्टेज बनाया गया है और यहां प्लांटेशन प्रेजेंटेशन हो रहा है|

नाइजीरियाई राष्ट्रपति के स्वागत में बजाई गई मराठी लावणी: कुछ लोगों ने वीडियो पर टिप्पणी की है और व्यंग्य किया है कि देश का प्रतिनिधित्व करने के लिए एक अच्छा गाना चुना गया है। कुछ ने तो यहां तक सवाल किया है कि क्या उन्हें अभी तक कोई अच्छा गाना नहीं मिला है|

नेटिज़न्स की प्रतिक्रियाएँ: कुछ नेटिज़न्स ने कहा कि लावणी महाराष्ट्र की सांस्कृतिक कला है। लेकिन, कम से कम बेहतर गाने तो चुने जाने चाहिए थे| अब उन्हें इस गाने का मतलब समझाएं ताकि उन्हें पता चले कि वे आपको भारत आते ही वहां से चले जाने के लिए कह रहे हैं| एक यूजर ने कमेंट करते हुए तंज भी कसा है कि अगर हमें गणेश चतुर्थी या अन्य धार्मिक त्योहारों के दौरान ऐसे गाने बजाने में शर्म नहीं आती तो विदेशी मेहमान इस गाने का मतलब नहीं समझेंगे और उनके स्वागत में ऐसे गाने पेश करने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए|

यह भी पढ़ें-

धमकी के बाद धीरेन्द्र शास्त्री की सुरक्षा बढ़ी, कथा पंडाल के चप्पे-चप्पे पर जवान

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

99,002फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
100,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें