27 C
Mumbai
Sunday, July 21, 2024
होमदेश दुनियाPS 2024: राष्ट्रपति के अभिभाषण में भी आपातकाल का जिक्र; बताया इतिहास...

PS 2024: राष्ट्रपति के अभिभाषण में भी आपातकाल का जिक्र; बताया इतिहास का काला अध्याय!

जब आपातकाल लगाया गया था, तो पूरा देश उन्माद में था। लेकिन देश ने ऐसी असंवैधानिक शक्तियों पर विजय प्राप्त करके दिखायी। द्रौपदी मुर्मू ने संबोधन में यह भी कहा कि भारत की नींव लोकतांत्रिक परंपरा है|

Google News Follow

Related

पिछले कुछ दिनों से देखा जा रहा है कि 50 साल पहले घोषित आपातकाल की एक बार फिर चर्चा हो रही है| सबसे पहले, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद के मानसून सत्र की पूर्व संध्या पर मीडिया से बातचीत में आपातकाल को ‘काला दिन’ बताया। इसके बाद सत्ता पक्ष की ओर से जहां आपातकाल पर आक्रामक रुख पेश किया जा रहा था, वहीं आज संसद के दोनों सदनों के सामने राष्ट्रपति के अभिभाषण में भी आपातकाल का जिक्र किया गया| उस समय देखा गया कि विपक्षी सदस्यों ने भ्रम की स्थिति पैदा कर दी। राष्ट्रपति ने अपने भाषण में आपातकाल को देश के इतिहास का काला अध्याय भी बताया|

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने वास्तव में क्या कहा?: राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने हमेशा की तरह सत्र की शुरुआत में संसद के दोनों सदनों को संबोधित किया। इस भाषण में राष्ट्रपति ने मोदी सरकार की उपलब्धियों की समीक्षा की| सरकारी पहल का जिक्र| इस मौके पर उन्होंने 25 जून 2024 को आपातकाल की 50वीं वर्षगांठ पर टिप्पणी की| “यहां तक कि जब संविधान का मसौदा तैयार किया जा रहा था, तब भी दुनिया में ऐसे समूह थे जो चाहते थे कि भारत विफल हो जाए। देश में संविधान लागू होने के बाद भी कई बार संविधान पर हमले हुए हैं| राष्ट्रपति ने इस अवसर पर कहा, 25 जून, 1975 को लगाया गया आपातकाल संविधान पर सीधे हमले का सबसे बड़ा और काला अध्याय था।

जब आपातकाल लगाया गया था, तो पूरा देश उन्माद में था। लेकिन देश ने ऐसी असंवैधानिक शक्तियों पर विजय प्राप्त करके दिखायी। द्रौपदी मुर्मू ने संबोधन में यह भी कहा कि भारत की नींव लोकतांत्रिक परंपरा है|

धारा 370 का भी जिक्र: इस बीच देश के संविधान पर बोलते हुए राष्ट्रपति ने जम्मू-कश्मीर से हटाए गए धारा 370 का भी जिक्र किया| “मेरी सरकार भी भारत के संविधान को केवल शासन का एक साधन नहीं मानती है। हम अपने संविधान को जीवन का नियमित हिस्सा बनाने का प्रयास कर रहे हैं। इसीलिए मेरी सरकार ने 26 नवंबर को संविधान दिवस के रूप में मनाना शुरू किया है।’ आज जम्मू-कश्मीर में भी संविधान पूरी तरह लागू हो गया है| राष्ट्रपति ने कहा, वहां अनुच्छेद 370 के कारण स्थिति अलग थी।

लोकसभा चुनाव नतीजों पर राष्ट्रपति की टिप्पणी: इस साल हुए लोकसभा चुनाव में एनडीए को बहुमत मिला है| हालांकि, भारतीय जनता पार्टी को अपेक्षित सीटें नहीं मिल पाईं| इसलिए सहयोगियों के सहयोग से केंद्र में सरकार बनी| राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में इन चुनावों पर टिप्पणी की| “यह दुनिया का सबसे बड़ा चुनाव था। 64 करोड़ लोगों ने अपना कर्तव्य निभाया|  महिलाओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया| जम्मू-कश्मीर में इस चुनाव की एक सुखद तस्वीर सामने आई। वहां दशकों के वोटिंग रिकॉर्ड टूट गए हैं| पिछले 4 दशकों में हमने कश्मीर में वोटिंग की तस्वीर सिर्फ बंद और हड़ताल के जरिए ही देखी है|

भारत के दुश्मन इसे विश्व मंच पर जम्मू-कश्मीर की राय के तौर पर प्रचारित करते रहे, लेकिन इस बार कश्मीर ने इस दुष्प्रचार का देश-दुनिया में कड़ी प्रतिक्रिया दी है|इस चुनाव में पहली बार घर बैठे वोटिंग की व्यवस्था भी हुई| इस अवसर पर अध्यक्ष द्रौपदी मुर्मू ने कहा, मैं लोकसभा चुनाव से जुड़े सभी कर्मचारियों को बधाई देती हूं।

यह भी पढ़ें-

Paris Olympic 2024: भारतीय हॉकी टीम की घोषणा, पांच नए खिलाड़ियों की एंट्री!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,500फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
166,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें