30 C
Mumbai
Wednesday, July 17, 2024
होमदेश दुनियाकौन हैं नृपेंद्र मिश्रा जो प्रधानमंत्री मोदी के बने रहे 'आंख और...

कौन हैं नृपेंद्र मिश्रा जो प्रधानमंत्री मोदी के बने रहे ‘आंख और कान’ !

मराठा समाज ने सरकार को सात महीने का समय दिया है​|​ मनोज जरांगे पाटिल ने कहा है कि हमारे पास मुंबई जाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है क्योंकि हमें आरक्षण नहीं मिला है​|​मनोज जरांगे पाटिल ने कहा है कि हम सात दिन में मुंबई पहुंचेंगे​|​

Google News Follow

Related

22 जनवरी को अयोध्या में रामलला का प्राण प्रतिष्ठा समारोह होगा​|​ नागर शैली में बने भव्य मंदिर के गर्भगृह में भगवान राम विराजमान होंगे​|​ पिछले तीन साल से राम मंदिर का निर्माण चौबीसों घंटे चल रहा है​|​ समय पर मंदिर निर्माण में एक व्यक्ति का बहुत बड़ा योगदान रहा है​|​ उन्होंने 3 वर्षों में 54 बार अयोध्या का दौरा किया। अयोध्या उनका दूसरा घर बन गया​|​​​ उस शख्स को प्रधानमंत्री मोदी की आंख और कान के तौर पर भी जाना जाता था​|​ वह शख्स हैं राम मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष और पूर्व चार्टर्ड अधिकारी नृपेंद्र मिश्रा​|​

​कौन हैं नृपेंद्र मिश्रा?: 8 मार्च, 1945 को उत्तर प्रदेश के मेरठ में जन्मे नृपेंद्र मिश्रा ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से रसायन विज्ञान में स्नातकोत्तर की पढ़ाई पूरी की। वह अपने विभाग के टॉपर थे, जब उन्होंने अपना पीजी पूरा किया। हालाँकि, उस समय वह सिविल सेवा परीक्षा में बैठने के योग्य नहीं थे। अभी 2 साल बचे थे इसलिए उन्होंने एक और मास्टर डिग्री हासिल करने का फैसला किया। नृपेंद्र मिश्रा ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से एमए राजनीति विज्ञान में प्रवेश लिया। बाद में, सिविल सेवा में शामिल होने के बाद, उन्होंने 1980 में हार्वर्ड विश्वविद्यालय से लोक प्रशासन में मास्टर डिग्री भी हासिल की।

नृपेंद्र मिश्रा सिविल सेवा में चयनित हुए और आईएएस बने। उन्हें उत्तर प्रदेश कैडर दिया गया|इसके बाद वे केंद्र सरकार में प्रतिनियुक्ति पर आये और वाणिज्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव बने। वह निर्यात इकाई से संबंधित सभी प्रस्तावों पर कुछ ही मिनटों में निर्णय ले लेते थे। मिश्रा के साथ काम कर चुके सभी अधिकारी कहते हैं कि उनकी निर्णय लेने की क्षमता बहुत तेज है|

उस लेख ने भाजपा का ध्यान खींचा: नृपेंद्र मिश्रा खाट सचिव और दूरसंचार सचिव थे। 2006 में, उन्हें भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था। 2009 के बाद उन्होंने ‘पब्लिक इंटरेस्ट फाउंडेशन’ की शुरुआत की जिसे वे ‘वन मैन एनजीओ’ कहते थे। इसका उद्देश्य देश में लोकतांत्रिक परंपरा को मजबूत करना था। इस अवधि के दौरान, मिश्रा ने विभिन्न समाचार पत्रों में लेख लिखना शुरू कर दिया। 2014 के चुनाव से पहले उनका एक लेख विशेष तौर पर प्रकाशित हुआ था, जिसमें उन्होंने नरेंद्र मोदी के चुनावी हलफनामे का बचाव किया| इसी लेख के जरिए उन पर भाजपा नेतृत्व की नजर पड़ी|

मोदी का बनाया ब्लू प्रिंट: 2014 का लोकसभा था भाजपा ने नरेंद्र मोदी को अपना प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया| एक दिन कार चला रहा था| तभी दोपहर में उनके पास अरुण जेटली का फोन आया| उन्होंने मिश्रा को गुजरात भवन बुलाया| वहां भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ठहरे हुए थे, जब वे जेटली से मिलने गए तो अजित डोभाल और कुछ लोग मौजूद थे| यहां उनकी मुलाकात नरेंद्र मोदी से हुई| इस बैठक में नृपेंद्र मिश्रा को मोदी का खाका तैयार करने का जिम्मा सौंपा गया|

प्रधानमंत्री कार्यालय में प्रवेश: नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने और उन्होंने नृपेंद्र मिश्रा को अपना प्रधान सचिव बनाने का प्रस्ताव रखा। मिश्रा ने 27 मई को पदभार ग्रहण किया, उसी दिन जिस दिन नरेंद्र मोदी ने प्रधान मंत्री के रूप में पदभार संभाला था। इसके बाद अगले 5 साल तक नृपेंद्र मिश्रा पीएमओ में प्रधानमंत्री की ‘आंख और कान’ बने रहे| उनकी गिनती प्रधानमंत्री के भरोसेमंद अफसरों में होती थी| मिश्र ने प्रधानमंत्री की हर योजना और मंशा को क्रियान्वित करने में जी जान लगा दी।

यह भी पढ़ें-

मराठा समुदाय: “क्या सरकार इतनी ​निकम्मी​ हो सकती है?; मनोज जरांगे पाटिल की आलोचना​!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,505फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें