23 C
Mumbai
Saturday, February 24, 2024
होमन्यूज़ अपडेटमराठा आरक्षण के सबसे ज्यादा विरोधी शरद पवार और सुप्रिया सुले; फडणवीस ​ने की...

मराठा आरक्षण के सबसे ज्यादा विरोधी शरद पवार और सुप्रिया सुले; फडणवीस ​ने की आलोचना​​!

उपमुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने आरोप लगाया, उन्होंने (विपक्षी दलों ने) बार-बार अवसर देने के बावजूद आरक्षण की पेशकश नहीं की है। नागपुर में भाजपा प्रदेश पदाधिकारियों की 'महाविजय 2024' सभा का आयोजन किया गया। उप मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने सभा का मार्गदर्शन करते हुए विपक्ष की आलोचना की।

Google News Follow

Related

मराठा आरक्षण को लेकर राज्य में बड़ा आंदोलन चल रहा है|मराठा आरक्षण के इतिहास पर नजर डालें तो मराठा आरक्षण का सबसे ज्यादा विरोध अगर किसी ने किया तो वो शरद पवार ही थे​| महाविकास अघाड़ी सरकार के दौरान भी सांसद सुप्रिया सुले के पास मराठा आरक्षण के अलावा कोई सवाल नहीं है? इतना कहकर सवाल खारिज कर दिया​|उपमुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने आरोप लगाया, उन्होंने (विपक्षी दलों ने) बार-बार अवसर देने के बावजूद आरक्षण की पेशकश नहीं की है। नागपुर में भाजपा प्रदेश पदाधिकारियों की ‘महाविजय 2024’ सभा का आयोजन किया गया। उप मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने सभा का मार्गदर्शन करते हुए विपक्ष की आलोचना की।

देवेन्द्र फडणवीस ने आगे कहा​ कि शरद पवार और विपक्ष के मन में होता तो मंडल आयोग तभी लागू हो जाता, मराठा समुदाय को आरक्षण मिल जाता​| अगर उनके मन में होता तो सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले भी आरक्षण दिया जा सकता था,लेकिन वे कभी भी आरक्षण नहीं देना चाहते थे। वे तो बस समाज को संघर्षशील बनाये रखना चाहते थे। लोग लड़ते रहेंगे तो उनका नेतृत्व बना रहेगा, यही उनकी मानसिकता है
हमने स्थायी आरक्षण दिया: हमने अपनी सरकार के दौरान मराठा समुदाय को आरक्षण दिया। न सिर्फ आरक्षण दिया गया, बल्कि हाईकोर्ट में इसे बरकरार रखा गया​| यह तब तक चला जब तक हमारी सरकार सुप्रीम कोर्ट में थी,लेकिन सरकार जाने के बाद इस पर रोक लग गई, देवेन्द्र फडणवीस ने कहा।

​बाठा सेना किस मुंह से आरक्षण की बात करती है: देवेंद्र फडणवीस ने इस दौरान उद्धव ठाकरे की शिवसेना की भी आलोचना की​| उन्होंने कहा, मुझे आश्चर्य है, उद्धव ठाकरे आरक्षण की बात करते हैं​| मंडल कमीशन के दौरान तत्कालीन शिवसेना ने ओबीसी आरक्षण के खिलाफ स्टैंड लिया था​| भुजबल ने इसी मुद्दे पर शिवसेना छोड़ी और अब आप किस मुंह से आरक्षण की मांग करते हैं​| 

ओबीसी के प्रति हमारी प्रतिबद्धता: हम मराठा समुदाय को आरक्षण देने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे। लेकिन साथ ही ओबीसी समाज किसी भी तरह का अन्याय नहीं होने देगा​| ​भाजपा की प्रतिबद्धता ओबीसी समुदाय के साथ है​| चाहे कुछ भी हो, ओबीसी अवधारणा का आरक्षण बरकरार रखा जायेगा​| हम ​भाजपा के कार्यकर्ता हैं​| इसलिए हर समाज को न्याय देना हमारा कर्तव्य है। भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच जातिगत गुट बनाना ठीक नहीं है​| ​भाजपा के ओबीसी और मराठा समुदाय के कार्यकर्ताओं को एक साथ रहना चाहिए. फडणवीस ने यह भी अपील की कि विभाजन का अचार न फैलने दिया जाए​| कोई भी समाज हमारे लिए महज़ एक मतपेटी नहीं है। साथ ही आरक्षण का मुद्दा चुनाव का मुद्दा नहीं हो सकता​| चुनावी मुद्दे अलग हैं|आरक्षण केवल एक सामाजिक मुद्दा है,लेकिन इस सवाल का असर गांव की ट्रेन पर नहीं पड़ना चाहिए​| हमें ऐसा कुछ भी नहीं करना चाहिए जिससे महाराष्ट्र की सामाजिक प्रतिबद्धता का उल्लंघन हो”, उन्होंने कहा।

मीडिया का प्रभाव होता तो ​भाजपा सत्ता में नहीं आती:
 विपक्ष की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा, ”विपक्ष को चाहे कितने भी नैरेटिव बनाने की इजाजत दे दी जाए, मीडिया में चर्चा तो होगी ही​|अगर मीडिया का प्रभाव होता तो भाजपा पार्टी कभी सत्ता में नहीं आती। मीडिया एक अहम हिस्सा है,लेकिन एक कथा सच्चाई से बहुत दूर है, ऐसी कथा कभी भी हमारे भाग्य का निर्धारण नहीं कर सकती है। ऐसी कथा चार दिनों तक चलती है और पांचवें दिन लुप्त हो जाती है। मराठा आरक्षण से हमें निशाना बनाने की कोशिश की गई​| उसके लिए एक वॉर रूम स्थापित किया गया,लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ​| क्योंकि उन्होंने इतने सालों तक आरक्षण नहीं दिया तो लोगों को सच्चाई पता चल गई​| 
विपक्ष राष्ट्र-राज्य के बारे में नहीं सोचता : भाजपा ने कभी ऐसा व्यवहार नहीं किया कि इससे देश को नुकसान होगा, समाज टूट जायेगा,​ लेकिन दुर्भाग्य से महाराष्ट्र में विपक्षी दल गलत मानसिकता में आ गया है।’ उन्हें सिर्फ सत्ता की चिंता है​|इसलिए वे देश या राज्य के बारे में सोचते नहीं दिखते​| देवेन्द्र फडणवीस ने ये भी कहा कि ऐसे में हमें ज्यादा सावधान और सतर्क रहने की जरूरत है​|हम देख रहे हैं, विपक्ष हर दिन अपना रुख बदल रहा है​| महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की शिवसेना, शरद पवार की एनसीपी और कांग्रेस पार्टियां जिस तरह का रुख अपना रही हैं, उसे देखकर नहीं लगता कि उन्हें राज्य और समाज की कोई चिंता है​| फडनवीस ने यह भी आलोचना की कि वे केवल इस बारे में सोच रहे हैं कि सत्ता की राजनीति में अपना अस्तित्व कैसे बनाए रखा जाए।
​यह भी पढ़ें-

“अगर सरकार ज​रांगे-​​पाटिल से किए वादे पूरे नहीं करेगी तो …”, बच्चू कडू की चेतावनी!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,758फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें