33 C
Mumbai
Tuesday, May 21, 2024
होमधर्म संस्कृतिडॉ​.​अम्बेडकर के 'वे' दो भाषण बार-बार पढ़ने लायक हैं…”; मोहन भागवत का...

डॉ​.​अम्बेडकर के ‘वे’ दो भाषण बार-बार पढ़ने लायक हैं…”; मोहन भागवत का बयान!

डॉ. बाबा साहेब अंबेडकर का जिक्र करते हुए मोहन भागवत ने कहा, ''संविधान में एकता को मार्गदर्शक सिद्धांत बताया गया है| डॉ.बाबा साहब अम्बेडकर ने संसद में भारतीय संविधान प्रस्तुत करते समय दो भाषण दिये। अगर आप उन दोनों भाषणों को ध्यान से पढ़ेंगे तो आपको पता चलेगा कि उनमें भाईचारे का संदेश एक ही है| 

Google News Follow

Related

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने संघ के कार्यकर्ताओं से कही ये बात|बाबा साहेब अंबेडकर के दो भाषण पढ़ने को कहा|साथ ही डॉ. अम्बेडकर के ये दोनों भाषण पढ़ने योग्य हैं। वह मंगलवार को दशहरा के अवसर पर नागपुर संघ कार्यालय में आयोजित विजय दशमी उत्सव कार्यक्रम में बोल रहे थे।
मोहन भागवत ने कहा, ”हमें एक-दूसरे के प्रति अपने मन में मौजूद अविश्वास से बाहर निकलना चाहिए|हमारे देश में राजनीति प्रतिस्पर्धा पर आधारित है। हमारे पीछे अधिक अनुयायी हों, इसके लिए समाज को विभाजित किया गया है। दुर्भाग्य से यह एक परंपरा बन गयी है|इसलिए समाज में अविश्वास का जवाब राजनीति से नहीं मिलेगा|यह कहना अप्रभावी है कि राजनीतिक वर्चस्व स्थापित करने से इस समस्या का समाधान हो जायेगा​|
“यह मानने का कोई कारण नहीं है कि हम किसी के सामने आत्मसमर्पण कर रहे हैं”: “हमारे पास लोकतंत्र है और यहां सभी लोग समान हैं। कोई भी श्रेष्ठ या निम्न नहीं है| हमें इसी पद्धति के अनुरूप कार्य करना होगा। हालांकि, समाज की एकता के लिए हमें राजनीति से अलग होकर पूरे समाज के बारे में सोचना होगा। ऐसा करने से, यह मानने का कोई कारण नहीं है कि हम किसी के सामने आत्मसमर्पण कर रहे हैं, युद्ध शुरू हो रहा है और अब युद्ध विराम है, ”मोहन भागवत ने कहा।

“यह कोई छवि बढ़ाने वाला कार्य नहीं है”: “यह स्व-हित के लिए अपील नहीं है, न ही यह किसी पार्टी की अपील है। यह कोई अपनी छवि सुधारने का कार्य नहीं है|यह अपनेपन का आह्वान है|भागवत ने यह भी कहा कि जो सुनेंगे उनका भला होगा और जो इसके बाद भी नहीं सुनेंगे उनका क्या होगा|

​”डॉ.बाबा साहेब अम्बेडकर के वो दो भाषण बार-बार पढ़ें”: डॉ. बाबा साहेब अंबेडकर का जिक्र करते हुए मोहन भागवत ने कहा, ”संविधान में एकता को मार्गदर्शक सिद्धांत बताया गया है| डॉ.बाबा साहब अम्बेडकर ने संसद में भारतीय संविधान प्रस्तुत करते समय दो भाषण दिये। अगर आप उन दोनों भाषणों को ध्यान से पढ़ेंगे तो आपको पता चलेगा कि उनमें भाईचारे का संदेश एक ही है|
“डॉ.अम्बेडकर के वे भाषण सुनाने लायक हैं”: “वे भाषण सुनाने लायक हैं। जैसे हम अपनी आस्था के अनुसार हर साल अपने पवित्र ग्रंथ पढ़ते हैं, वैसे ही संघ कार्यकर्ता हर साल डॉक्टरों की जीवनियां पढ़ते हैं, डॉ. यदि आप बाबासाहेब अम्बेडकर का पूरा साहित्य नहीं पढ़ सकते हैं, तो कम से कम 15 अगस्त और 26 जनवरी के उन दो भाषणों को पढ़ें, ”मोहन भागवत ने कहा।
​यह भी पढ़ें-

राम मंदिर ट्रस्ट ने पुजारियों की नियुक्ति के लिए मांगे आवेदन, जाने अंतिम तारीख

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,601फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
154,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें