28 C
Mumbai
Wednesday, February 28, 2024
होमबिजनेसभारत की ऊंची उड़ान

भारत की ऊंची उड़ान

भारतीय विमानन उद्योग ने उल्लेखनीय वृद्धि हो रही है

Google News Follow

Related

प्रशांत कारुलकर

भारतीय विमानन उद्योग ने हाल के वर्षों में उल्लेखनीय वृद्धि देखी है, जो बढ़ते मध्यम वर्ग, बढ़ती डिस्पोजेबल आय और हवाई कनेक्टिविटी में सुधार लाने के उद्देश्य से सरकारी पहल सहित कारकों के संयोजन से प्रेरित है।  2014 के बाद से, भारत सरकार ने इस क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए कई उपायों को लागू किया है, जिसमें हवाई अड्डे के इंफ्रास्ट्रक्चर में विस्तार, क्षेत्रीय कनेक्टिविटी को बढ़ाने और कम लागत वाली एयरलाइनों को बढ़ावा देने पर ध्यान केंद्रित किया गया है।  इन प्रयासों ने न केवल विमानन परिदृश्य को बदल दिया है बल्कि भारतीय अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में व्यापार वृद्धि को प्रोत्साहित करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

1. उड़ान योजना: 2016 में शुरू की गई, उड़ान योजना का लक्ष्य भारत भर में विशेष रूप से टियर 2 और टियर 3 शहरों में कम सेवा वाले और कम सेवा वाले हवाई अड्डों को जोड़ना है।  इस पहल ने हवाई कनेक्टिविटी का काफी विस्तार किया है, जिससे लाखों भारतीयों के लिए यात्रा अधिक सुलभ और सस्ती हो गई है।  इस योजना ने व्यापार, पर्यटन और व्यवसाय विकास के नए रास्ते खोलकर क्षेत्रीय अर्थव्यवस्थाओं को भी बढ़ावा दिया है।

2. क्षेत्रीय कनेक्टिविटी योजना: 2015 में लागू की गई यह योजना कम सेवा वाले मार्गों पर उड़ानें संचालित करने वाली एयरलाइनों को सब्सिडी प्रदान करती है।  इसने एयरलाइंस को अपने नेटवर्क को छोटे हवाई अड्डों तक विस्तारित करने, क्षेत्रीय कनेक्टिविटी को बढ़ाने और उन क्षेत्रों में आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहित किया है।

3. हवाई अड्डे के बुनियादी ढांचे का विस्तार: सरकार ने मौजूदा हवाई अड्डों की क्षमता बढ़ाने और नए हवाई अड्डों के निर्माण के लिए एक बड़े बुनियादी ढांचे के विकास कार्यक्रम शुरू किया है।  इसमें रनवे, टर्मिनल और अन्य सुविधाओं का विस्तार शामिल है, जिससे हवाई अड्डे अधिक यात्रियों और उड़ानों को संभालने में सक्षम होंगे।  बेहतर बुनियादी ढांचे ने न केवल यात्री अनुभव को बढ़ाया है बल्कि व्यापार और वाणिज्य को बढ़ावा देते हुए एयर कार्गो परिचालन के विकास में भी मदद की है।

4. कम लागत वाली एयरलाइनों को बढ़ावा: सरकार ने हवाई यात्रा को अधिक किफायती और सुलभ बनाने में उनकी भूमिका को पहचानते हुए, कम लागत वाली एयरलाइनों के विकास को सक्रिय रूप से प्रोत्साहित किया है।  इससे भारत में परिचालन करने वाली कम लागत वाली वाहकों की संख्या में वृद्धि हुई है, जो बजट के प्रति जागरूक यात्रियों के लिए अधिक विकल्प प्रदान करती है। एयरलाइनों के बीच बढ़ती प्रतिस्पर्धा के कारण किराया भी कम हुआ है, जिससे हवाई यात्रा की मांग में और वृद्धि हुई है।

इन पहलों के परिणामस्वरूप भारत में हवाई यातायात में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है।  2022 में, भारत का घरेलू हवाई यातायात 121 मिलियन यात्रियों के रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया, जो 2014 में 63 मिलियन से अधिक था। यह वृद्धि कई कारकों के संयोजन से प्रेरित है, जिसमें बढ़ती डिस्पोजेबल आय, हवाई यात्रा के लाभों के बारे में जागरूकता बढ़ाना और  हवाई यात्रा को और अधिक किफायती बनाने के सरकार के प्रयास।  हवाई कनेक्टिविटी बढ़ाने की भारत सरकार की पहल का अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में व्यापार वृद्धि पर गहरा प्रभाव पड़ा है।  बेहतर हवाई कनेक्टिविटी ने व्यावसायिक यात्रा को सुविधाजनक बनाया है, जिससे कंपनियों को अपनी पहुंच बढ़ाने, सम्मेलनों और व्यापार शो में भाग लेने और ग्राहकों और भागीदारों के साथ मजबूत संबंध बनाने में मदद मिली है।  इससे व्यवसायों के लिए माल और सामग्रियों का परिवहन करना आसान हो गया है, रसद लागत कम हो गई है और आपूर्ति श्रृंखला दक्षता में सुधार हुआ है।

हवाई संपर्क के विस्तार ने भी भारत में विदेशी निवेश को आकर्षित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।  प्रमुख भारतीय शहरों और व्यावसायिक केंद्रों तक बेहतर पहुंच ने देश को बहुराष्ट्रीय कंपनियों के लिए अधिक आकर्षक गंतव्य बना दिया है, जिससे विनिर्माण, सेवाओं और अन्य क्षेत्रों में निवेश में वृद्धि हुई है।  उदाहरण के लिए, उड़ान योजना ग्रामीण क्षेत्रों में व्यवसायों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद रही है, जो उन्हें उन बाजारों और अवसरों तक पहुंच प्रदान करती है जो पहले उनकी पहुंच से बाहर थे।  इससे इन क्षेत्रों में आर्थिक गतिविधि और रोजगार सृजन में वृद्धि हुई है।

 निष्कर्षतः  हवाई कनेक्टिविटी बढ़ाने की भारत सरकार की पहल का देश के विमानन क्षेत्र पर परिवर्तनकारी प्रभाव पड़ा है और इसने भारतीय व्यवसायों को बढ़ने के लिए सशक्त बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।  इन सुधारों ने न केवल नागरिकों के लिए निर्बाध यात्रा की सुविधा प्रदान की है, बल्कि भारत की आर्थिक वृद्धि और विकास में भी योगदान दिया है।  जैसे-जैसे भारत वैश्विक विमानन केंद्र बनने की दिशा में आगे बढ़ रहा है, यह स्पष्ट है कि हवाई कनेक्टिविटी बढ़ाने की सरकार की प्रतिबद्धता देश की प्रगति को आगे बढ़ाती रहेगी।

ये भी पढ़ें 

भू-राजनीतिक अनिश्चितता के युग में भारत की विकास संभावनाएं

पाकिस्तान अफगान शरणार्थी संकट और प्रभाव

I.N.D.I.A के कसमे वादे प्यार वफ़ा सब बातें हैं, बातों का क्या … 

दिल्ली का बढ़ता प्रदूषण: भारत के लिए बड़ी चुनौती

शाश्वत विकास: भारत के लिए एक आवश्यकता  

संयुक्त राज्य अमेरिका में सामूहिक गोलीबारी का मुद्दा

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,746फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
132,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें