27 C
Mumbai
Sunday, July 21, 2024
होमब्लॉगमहज संदेह पर हस्तक्षेप की जरूरत नहीं! ईवीएम पर सुप्रीम कोर्ट का...

महज संदेह पर हस्तक्षेप की जरूरत नहीं! ईवीएम पर सुप्रीम कोर्ट का स्पष्टीकरण!

Google News Follow

Related

हम चुनावों को नियंत्रित नहीं कर सकते. वोटिंग मशीनों और वीवीपैट को लेकर हमारी शंकाएं केंद्रीय चुनाव आयोग ने दूर कर दी हैं। सुप्रीम कोर्ट ने वोटिंग मशीन से छेड़छाड़ की आशंका को खारिज कर दिया और इस संबंध में दायर याचिकाओं पर फैसला सुरक्षित रखते हुए कहा कि इस बारे में केवल संदेह व्यक्त किया गया है और वह इस कारण से कोई आदेश जारी नहीं कर सकता​|

लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों के अंतर्गत आने वाले विधानसभा क्षेत्रों में से प्रत्येक में पांच ‘वीवीपीएटी’ (कागजी रसीदें) का सत्यापन होता है। इसके बजाय, एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म (एडीआर) और अन्य याचिकाकर्ताओं द्वारा सभी वीवीपैट के सत्यापन की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है।

इस बारे में ले.संजीव खन्ना और श्री.दीपांकर दत्ता की पीठ के समक्ष सुनवाई बुधवार को पूरी हो गयी​|​ पीठ ने बुधवार को केंद्रीय चुनाव आयोग से कुछ तकनीकी मुद्दों पर स्पष्टीकरण मांगा​|​ आयोग द्वारा दोपहर दो बजे तक चारों मुद्दों पर अपनी स्थिति स्पष्ट करने के बाद पीठ ने वोटिंग मशीनों के जरिये चुनाव प्रक्रिया में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया​|​

पीठ ने मतपेटियों के जरिये मतदान की संभावना से भी इनकार कर दिया​|​ आयोग ने अदालत को बताया कि वोटिंग मशीनों और इन मशीनों से जुड़ी ‘वीवीपीएटी’ मशीनों के साथ छेड़छाड़ नहीं की जा सकती। ‘एडीआर’ की ओर से वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने मुद्दा उठाया कि वोटिंग मशीनों की कार्य प्रणाली को बदला जा सकता है​|​ इस पर चुनाव आयोग ने सभी शंकाओं को दूर कर दिया है और कोर्ट ने साफ कर दिया है कि सिर्फ शंकाओं के आधार पर चुनाव प्रक्रिया में बदलाव नहीं किया जा सकता​|​

सिग्नलिंग सिस्टम गोपनीय!: यह मुद्दा उठाकर वोटिंग मशीन में सिग्नलिंग सिस्टम के स्रोत का खुलासा करने की मांग की गई थी कि वोटिंग मशीनों के ऑपरेटिंग सिस्टम को संशोधित किया जा सकता है या ऑपरेटिंग सिस्टम को नए सिरे से अपलोड किया जा सकता है। हालाँकि, कोड का स्रोत गोपनीय रखा जाएगा। अन्यथा इसका दुरुपयोग होने का खतरा हो सकता है​|​खन्ना ने समझाया​|

माइक्रो-कंट्रोलर कंट्रोल यूनिट में है या वीवीपैट में?: कंट्रोल यूनिट, बैलेट यूनिट, वीवीपैट में अलग-अलग माइक्रो-कंट्रोलर होते हैं। ऑपरेटिंग सिस्टम को माइक्रो-कंट्रोलर की मेमोरी में अपलोड किया जाता है। क्योंकि माइक्रोकंट्रोलर एक सुरक्षित, अनधिकृत एक्सेस-डिटेक्शन मॉड्यूल में रखा गया है, नियंत्रक इसके साथ छेड़छाड़ नहीं कर सकता है।

क्या ऑपरेटिंग सिस्टम को एक बार प्रोग्राम किया जा सकता है?: ऑपरेटिंग सिस्टम को माइक्रो-कंट्रोलर पर केवल एक बार अपलोड किया जाता है। उसके बाद इसमें संशोधन नहीं किया जा सकता| कितनी इकाइयां चुनाव चिह्न अपलोड कर रही हैं? सरकारी कंपनियां इलेक्ट्रॉनिक कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (ECIL) और भारत इलेक्ट्रॉनिक्स (BEL) वोटिंग मशीनें बनाती हैं। ECIL की 1,904 इकाइयाँ हैं जबकि BHEL की 3,154 सिंबल अपलोडिंग इकाइयाँ हैं।

सूचना-पत्र कितने समय तक संग्रहीत किया जाता है?: परिणामों के विरुद्ध आपत्तियाँ मतगणना के 45 दिनों के भीतर की जा सकती हैं। अत: 46वें दिन वोटिंग मशीनों से बिना किसी आपत्ति के सूचना-पत्र नष्ट कर दिया जाता है। क्या कंट्रोल यूनिट और वीवीपैट सीलबंद हैं? क्या मशीनें एक साथ रखी जाती हैं या अलग-अलग? तीनों इकाइयों को एक साथ सील कर सुरक्षित रखा गया है।

यह भी पढ़ें-

कथित फोन टैपिंग मामले में ​पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर लगे गंभीर आरोप​!​

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,500फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
166,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें