25 C
Mumbai
Saturday, February 24, 2024
होमदेश दुनियाTaiwan: 90 प्रतिशत ताइवानी नहीं मानते China का हिस्सा

Taiwan: 90 प्रतिशत ताइवानी नहीं मानते China का हिस्सा

सर्वेक्षण में पाया गया कि 88.6 प्रतिशत ने ताइवान जलडमरू मध्य में शांति की रक्षा के लिए अन्य लोकतंत्रों के साथ घनिष्ठ सहयोग की मांग करने वाली सरकार को मंजूरी दी है।

Google News Follow

Related

रूस-यूक्रेन संकट के बीच एक सर्वेक्षण किया गया| इस सर्वेक्षण में लगभग 90 प्रतिशत लोगों ने बीजिंग के इस दावे को खारिज कर दिया कि ताइवान चीन का हिस्सा था। ताइवान न्यूज ने रेडियो ताइवान इंटरनेशनल (आरटीआई) का हवाला देते हुए कहा कि लगभग 90 प्रतिशत ने बीजिंग के निरंतर दावों को खारिज कर दिया कि ताइवान चीन का हिस्सा था।

सर्वेक्षण में पाया गया कि 88.6 प्रतिशत ने ताइवान जलडमरू मध्य में शांति की रक्षा के लिए अन्य लोकतंत्रों के साथ घनिष्ठ सहयोग की मांग करने वाली सरकार को मंजूरी दी है। 70 प्रतिशत से अधिक ने उच्च स्तरीय प्रौद्योगिकी विशेषज्ञों को चीन में नौकरियों के लालच में आने से रोकने के संवैधानिक प्रयासों के समर्थन में भी आवाज उठाई।

जनमत सर्वेक्षण के परिणामों के अनुसार ताइवान के 74.6 प्रतिशत ने चीन को ताइवान की सरकार के प्रति शत्रुतापूर्ण माना और 59.3 प्रतिशत ने कहा कि उसने ताइवान के लोगों के प्रति एक उसका रवैया स्पष्ट नहीं है, जबकि 80 प्रतिशत से अधिक ने सरकार के इस रुख को स्वीकार किया कि ताइवान का भविष्य और चीन के साथ संबंधों का विकास ताइवान की 23 मिलियन आबादी के निर्णय के अधीन होना चाहिए।

गौरतलब है कि  बीजिंग ताइवान पर पूर्ण संप्रभुता का दावा करता है। मुख्य भूमि चीन के दक्षिण-पूर्वी तट पर स्थित लगभग 2 करोड़ 40 लाख (24 मिलियन) लोगों का लोकतंत्र है। ताइवान 2020 में बीजिंग द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा कानून पारित करने के बाद से हांगकांग की स्थिति के बारे में बेहद चिंतित है। हांगकांग का लुप्त हो रहा लोकतंत्र, स्वतंत्रता और मानवाधिकार यह साबित करता है कि ‘एक देश, दो प्रणाली’ एक झूठ है।

यह भी पढ़ें-

Russia-Ukraine War: रूस के पूर्व राष्ट्रपति, कहा, बैन का असर नहीं होगा !

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,758फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें