33 C
Mumbai
Tuesday, May 21, 2024
होमदेश दुनियाभारत ने ब्लैकआउट से बचने के लिए कोयला आयात का अधिदेश

भारत ने ब्लैकआउट से बचने के लिए कोयला आयात का अधिदेश

बिजली संयंत्रों को कोयला आयात करने की अनिवार्यता को मार्च 2024 तक बढ़ा दिया है। 

Google News Follow

Related

प्रशांत कारुलकर

भारत सरकार ने ब्लैकआउट से बचने के प्रयास में, बिजली संयंत्रों को कोयला आयात करने की अनिवार्यता को मार्च 2024 तक बढ़ा दिया है। यह निर्णय तब लिया गया है जब भारत कोयले की गंभीर कमी का सामना कर रहा है, जो गर्मी की लहर और सूखे के कारण और बढ़ गई है।

शासनादेश मूल रूप से अप्रैल 2022 में जारी किया गया था, और बिजली संयंत्रों को अप्रैल और मई के महीनों के लिए अपनी कोयला आवश्यकताओं का कम से कम 75% आयात करने की आवश्यकता थी। अधिदेश के विस्तार का मतलब है कि बिजली संयंत्रों को अब जून, जुलाई, अगस्त, सितंबर और अक्टूबर के महीनों के लिए अपनी कोयला आवश्यकताओं का कम से कम 4% आयात करना होगा।

सरकार ने कहा है कि विस्तारित आयात अधिदेश यह सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक है कि मांग को पूरा करने और ब्लैकआउट से बचने के लिए पर्याप्त कोयला उपलब्ध है। गर्मी की लहर के कारण बिजली की मांग बढ़ गई है और सूखे के कारण कोयला उत्पादन कम हो गया है।

सरकार कोयले की कमी को दूर करने के लिए अन्य कदम भी उठा रही है, जैसे घरेलू कोयला उत्पादन बढ़ाना और अधिक कोयला आयात करना। हालांकि, विस्तारित आयात अधिदेश को तब तक एक रोक-टोक उपाय के रूप में देखा जाता है जब तक सरकार अंतर्निहित समस्याओं का समाधान नहीं कर लेती।

कोयले की कमी का भारत के बिजली क्षेत्र पर काफी असर पड़ा है। अप्रैल 2022 में, कई राज्यों में बिजली कटौती का अनुभव हुआ, और सरकार को लोड शेडिंग लगाने के लिए मजबूर होना पड़ा, जो तब होता है जब कुछ क्षेत्रों में बिजली की आपूर्ति में कटौती की जाती है।

कोयले की कमी का भारत की अर्थव्यवस्था पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ने की आशंका है। बिजली क्षेत्र आर्थिक विकास का एक प्रमुख चालक है और कोयले की कमी के कारण विकास धीमा हो सकता है।

कोयले की कमी को दूर करने के उपाय 

– घरेलू कोयला उत्पादन बढ़ाना: सरकार घरेलू कोयला उत्पादन बढ़ाने के लिए कदम उठा रही है, जैसे नई खदानें खोलना और कोयला ब्लॉकों की नीलामी करना।

– अधिक कोयले का आयात: सरकार मांग को पूरा करने के लिए अधिक कोयले का आयात भी कर रही है।

– वैकल्पिक ईंधन का उपयोग: सरकार कोयले पर निर्भरता कम करने के लिए सौर और पवन ऊर्जा जैसे वैकल्पिक ईंधन के उपयोग को भी बढ़ावा दे रही है।

कोयले की कमी एक जटिल समस्या है और इसका कोई आसान समाधान नहीं है। हालाँकि, सरकार इस मुद्दे के समाधान के लिए कदम उठा रही है और उम्मीद है कि आने वाले महीनों में स्थिति में सुधार होगा।

 

 ये भी पढ़ें 

 

संघ प्रमुख प्रमुख मोहन भागवत की अपील! इंडिया नहीं भारत कहिए      

PM मोदी ने आदित्य L-1 के लॉन्चिंग पर ISRO के वैज्ञानिकों को दी बधाई      

राजस्थान में पत्नी को नंगा कर घुमाने वाले पति की टूटी टांग, जाने क्या है मामला?   

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,601फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
154,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें