28 C
Mumbai
Wednesday, February 28, 2024
होमदेश दुनियाइसरो की एक और बड़ी कामयाबी, चंद्रमा पर भेजा गया अंतरिक्ष यान...

इसरो की एक और बड़ी कामयाबी, चंद्रमा पर भेजा गया अंतरिक्ष यान धरती पर लाया वापस!

चंद्रयान-3 के प्रज्ञान रोवर और विक्रम लैंडर ने इसरो को चंद्रमा की सतह के तापमान पर डेटा प्रदान किया। वहां ली गई विभिन्न तस्वीरें और वीडियो भी इसरो को भेजे गए। लेकिन, चंद्रमा पर रात होने के बाद इसरो का चंद्रमा पर शोध कार्य समाप्त हो गया। इस बीच चंद्रयान मिशन के दूसरे हिस्से में इसरो को एक और कामयाबी हासिल हुई है|

Google News Follow

Related

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) को एक बड़ी सफलता हासिल हुई है। इसरो ने हाल ही में चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर भारत का अंतरिक्ष यान उतारकर एक बड़ी उपलब्धि हासिल की है। इसके साथ ही भारत चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने वाला दुनिया का पहला देश बन गया। इसरो का चंद्रयान-3 मिशन सफल रहा| चंद्रयान-3 के प्रज्ञान रोवर और विक्रम लैंडर ने इसरो को चंद्रमा की सतह के तापमान पर डेटा प्रदान किया। वहां ली गई विभिन्न तस्वीरें और वीडियो भी इसरो को भेजे गए। लेकिन, चंद्रमा पर रात होने के बाद इसरो का चंद्रमा पर शोध कार्य समाप्त हो गया। इस बीच चंद्रयान मिशन के दूसरे हिस्से में इसरो को एक और कामयाबी हासिल हुई है|

इसरो ने कुछ समय पहले जानकारी दी थी कि उसके वैज्ञानिक चंद्रयान-3 के प्रोपल्शन मॉड्यूल को चंद्रमा की कक्षा से वापस पृथ्वी की कक्षा में लाने में सफल हो गए हैं। चंद्र मिशन के इस बड़े चरण की जानकारी देते हुए इसरो ने कहा है, ”अब चंद्रमा से धरती पर लौटने की प्रक्रिया आसान होने वाली है| हम अब ऐसे अभियानों पर काम कर रहे हैं।’ इस उद्देश्य से एक सॉफ्टवेयर विकसित किया जा रहा है।

चंद्रयान मिशन पूरा करने के बाद चंद्रयान-3 का प्रोपल्शन मॉड्यूल अब पृथ्वी की कक्षा में लौट आया है। यह न केवल चंद्र मिशन के लिए एक सीमित सफलता है, बल्कि एक उपलब्धि है जो किसी भी अंतरिक्ष यान या अंतरिक्ष यात्री की अंतरिक्ष मिशन पूरा करने के बाद पृथ्वी पर लौटने की क्षमता को साबित करती है। तो इसरो अब किसी अंतरिक्ष यात्री को अंतरिक्ष या चंद्रमा पर भेजने और उन्हें सुरक्षित रूप से पृथ्वी पर वापस लाने में सक्षम होगा।

चंद्रयान-3 का प्रोपल्शन मॉड्यूल फिलहाल पृथ्वी की कक्षा में चक्कर लगा रहा है| 22 नवंबर को उन्होंने 1.54 लाख किलोमीटर की दूरी तय की| प्रणोदन मॉड्यूल की शेष यात्रा में 13 दिन तक का समय लग सकता है। प्रणोदन मॉड्यूल को चंद्र कक्षा से पृथ्वी की कक्षा में लाने का प्रयास सफल रहा है। अब इस मॉड्यूल की पृथ्वी तक की यात्रा अपेक्षाकृत आसान होगी। इस मॉड्यूल के लिए एक सॉफ्टवेयर विकसित किया जा रहा है। जो अभी शुरुआती चरण में है|

अगस्त 2023 में इसरो ने एक ऐसी उपलब्धि हासिल की जिससे दुनिया को ईर्ष्या होगी। इसरो ने 14 जुलाई, 2023 को श्रीहरिकोटा से चंद्रयान-3 लॉन्च किया और 23 अगस्त, 2023 को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सफलतापूर्वक उतरा। भारत चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने वाला दुनिया का पहला देश बन गया। इसके बाद चंद्रयान-3 14 दिनों तक चांद पर रिसर्च कर रहा था| प्रज्ञान रोवर और विक्रम लैंडर चंद्रमा की विभिन्न सूचनाएं, तस्वीरें और वीडियो भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन को भेज रहे थे। लेकिन चंद्रमा पर रात होने के बाद भारत का ज्ञान और अभिलेख निष्क्रिय हो गए। क्योंकि यह मिशन पूरी तरह से सौर ऊर्जा पर निर्भर था।
यह भी पढ़ें-

चक्रवात मिचोंग ने तमिलनाडु-आंध्र प्रदेश को दहलाया, हवाईअड्डे बंद, ट्रेनें रद्द,छह की मौत!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,746फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
132,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें