30 C
Mumbai
Wednesday, July 17, 2024
होमदेश दुनियासुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान जज ने वकील से कहा, ''...तो...

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान जज ने वकील से कहा, ”…तो मैं तुम्हें अपनी आधी सैलरी दूंगा”!

सुप्रीम कोर्ट के घटनाक्रम पर पूरे देश की नजर है​|​ वहां जो कुछ भी होता है उसे देश भर की अन्य अदालतों के लिए एक मॉडल माना जाता है।​ ​इसीलिए इस समय सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान हुई एक घटना की जोरदार चर्चा है। क्योंकि जब ये सुनवाई चल रही थी तो जज ने खुद वकील को अपनी आधी सैलरी ऑफर की थी!

Google News Follow

Related

सुप्रीम कोर्ट देश में कई महत्वपूर्ण मामलों की सुनवाई करता है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले को देश की किसी अन्य अदालत में चुनौती नहीं दी जा सकती|इसलिए सुप्रीम कोर्ट के घटनाक्रम पर पूरे देश की नजर है|वहां जो कुछ भी होता है उसे देश भर की अन्य अदालतों के लिए एक मॉडल माना जाता है।इसीलिए इस समय सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान हुई एक घटना की जोरदार चर्चा है। क्योंकि जब ये सुनवाई चल रही थी तो जज ने खुद वकील को अपनी आधी सैलरी ऑफर की थी!

आख़िर हुआ क्या?: जस्टिस पी. ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में एक मामले की सुनवाई की| एस.नरसिम्हा के सामने दौड़ रहा था, जब दोनों पक्षों के वकील सामने बहस कर रहे थे तो अचानक जज ने वकील के जिक्र पर आपत्ति जताई| साथ ही अगर आप ऐसा करना बंद कर देंगे तो मैं आपको अपनी आधी सैलरी दे दूंगा, जज ने यह भी कहा कि कोर्ट में हंसी की फुहार गूंज उठी|

हुआ यह कि सुनवाई के दौरान जज के सामने वकील बार-बार ‘माई लॉर्ड’, ‘योर लॉर्डशिप’ कहता रहा। अदालती कार्यवाही में न्यायाधीशों को संबोधित करते समय वकील हमेशा इन शब्दों का प्रयोग करते हैं। हालांकि, जस्टिस नरसिम्हा ने इस पर आपत्ति जताई और संबंधित वकीलों से इन शब्दों का इस्तेमाल न करने का अनुरोध किया।

“आप कितनी बार और कहेंगे ‘माई लॉर्ड्स’? अगर तुम ऐसा कहना बंद कर दो तो मैं तुम्हें अपनी आधी तनख्वाह दे दूंगा। आप इसके बजाय सीधे ‘सर’ क्यों नहीं कहते?” इस वक्त जस्टिस नरसिम्हा ने भी ये सवाल पूछा. यह ब्रिटिश शासन के दौरान की कुछ प्रथाओं में से एक है जिसका विरोध किया जाता है।

2006 में प्रस्ताव को मिली थी मंजूरी: इस बीच, बार काउंसिल ने 2006 में ही इस शब्द का इस्तेमाल न करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है| इसके अलावा 2008 में दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश एस. जस्टिस रवींद्र भट्ट और जस्टिस एस मुरलीधर ने भी इन शब्दों का इस्तेमाल न करने पर स्पष्ट रुख अपनाया| 2009 में मद्रास हाई कोर्ट के जस्टिस के.चंद्रू ने वकीलों को इन शब्दों का इस्तेमाल न करने की हिदायत दी थी| कोलकाता हाई कोर्ट के एक जज ने भी वकीलों से ऐसी ही गुजारिश की है|

2019 में राजस्थान हाई कोर्ट ने इन शब्दों का इस्तेमाल न करने का नोटिस जारी किया था! इसी पृष्ठभूमि में अब सुप्रीम कोर्ट के जजों ने भी वकीलों से इन शब्दों का इस्तेमाल न करने का अनुरोध किया है|

यह भी पढ़ें-

मराठा आरक्षण को लेकर ‘टू’ जीआर मनोज ​जरांगे को सौंपा गया, संदीपन भुमरे ने कहा..​!

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,505फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें