36 C
Mumbai
Thursday, February 29, 2024
होमराजनीतिआठ की सैलरी लेने वाले भजन लाल राजस्थान के बने मुख्यमंत्री   

आठ की सैलरी लेने वाले भजन लाल राजस्थान के बने मुख्यमंत्री   

भजन लाल शर्मा सांगानेर से पहली बार विधायक चुने गए हैं।

Google News Follow

Related

बीजेपी ने छत्तीसगढ़ मध्य प्रदेश की तरह राजस्थान में भी चौंकाया है। राजस्थान में बीजेपी ने भजन लाल शर्मा को मुख्यमंत्री बनाने की घोषणा की है तो दीया कुमारी और प्रेम चंद्र बैरवा को डिप्टी सीएम बनाया गया है। मंगलवार को पर्वेक्षक टीम में राजनाथ सिंह, सरोज पांडे और विनोद तावड़े ने विधायक दल की बैठक की। भजन लाल शर्मा सांगानेर से पहली बार विधायक चुने गए हैं। बताया जा रहा है कि भजनलाल अपने शुरूआती दिनों में आठ हजार रुपये में एक ठेकेदार के यहां काम किया करते थे। बाद में उन्होंने वन विभाग में भी काम किया।

गौरतलब है कि बीजेपी ने पांच राज्यों में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में तीन राज्यों में जीत दर्ज किया। BJP ने राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में चौंकाते हुए बहुमत के साथ सत्ता में लौटी। एक सप्ताह बीतने के बाद भी बीजेपी ने सीएम चेहरा घोषित नहीं किया था। जिससे यह अनुमान लगाया जा रहा था कि किसी नए चेहरे पर दांव लगा सकती थी। मंगलवार को बीजेपी ने राजस्थान में भजन लाल शर्मा को मुख्यमंत्री पद के लिए घोषणा कर सबको चौंका दिया। भजन लाल शर्मा पहली बार सांगानेर से चुनाव लड़ा था और जीत हासिल किया है।

56 साल के भजनलाल शर्मा राजस्थान के भरतपुर के रहने वाले हैं। वे तीन बार बीजेपी राजस्थान के महामंत्री पद पर रहे हैं। वे बीजेपी के सबसे भरोसेमंद नेता माने जाते हैं। संघ से उनका पुराना नाता है,लेकिन उन्हें इस बार पहली बार चुनाव लड़ने का मौक़ा मिला और जीत कर आये। साथ उन्हें मुख्यमंत्री भी बनाया। बताया जाता है कि भजनलाल अकसर पार्टी कार्यक्रम में उपस्थित देखे  जाते थे। संचालन की जिम्मेदारी संभालते थे। वे एक कुशल वक्ता भी हैं। भजनलाल शर्मा भले चर्चा में नहीं थे, लेकिन ब्राह्मण कार्ड के तहत उनका नाम रेस में सबसे आगे था।

वैसे भजनलाल शर्मा छात्र संगठन एबीवीपी से जुड़े रहें हैं। उन्हें गृह मंत्री अमित शाह और जेपी नड्डा का सबसे भरोसेमंद आदमी कहा जाता है। बताया जा रहा है कि भजन लाल अपने शुरुआती समय में आठ हजार रुपये की सैलरी पर मुनीमगिरी की है। भरतपुर के ही आरपी शर्मा के यहां काम करते थे जो हाइवे बनाने के काम का ठेका लेते थे। यहां से काम छोड़ने के बाद उन्होंने वन विभाग में  काम किया था। बताया जा रहा है कि वसुंधरा राजे के कार्यकाल में जलप्रदाय मंत्री रही किरण महेश्वरी के सम्पर्क में आने के बाद उन्होने उन्हें अपने विभाग काम दिलवाया था।

बता दें कि बीजेपी ने रविवार को छत्तीसगढ़ में विष्णु साय को मुख्यमंत्री बनाने की घोषणा की,जो आदिवासी समाज से आते हैं। वहीं उनके साथ दो उप मुख्यमंत्री अरुण साव और विजय शुक्ला  गया। अरुण साव छत्तीसगढ़ की ओबीसी जाति से आते हैं। जबकि विजय शुक्ला सवर्ण वर्ग से आते है। वहीं, सोमवार को मध्य प्रदेश में बीजेपी ने मोहन यादव को सीएम बनाने की घोषणा की थी , जो पिछड़ा वर्ग से हैं, तो उनके साथ दो विधायकों को उप मुख्यमंत्री बनाया गया है। जिनमें राजेंद्र शुक्ला सामान्य वर्ग से ब्राम्हण जाति से आते हैं, तो जगदीश देवड़ा अनुसूचित वर्ग से आते हैं।

ये भी पढ़ें 

 

JNU में प्रदर्शन करने पर 20 और 10 हजार रुपये का जुर्माना छात्र भड़के     

CM केरल पर राज्यपाल का गंभीर आरोप; कहा,कार को ​मारी टक्कर​!

भाजपा विधायक प्रसाद लाड की फिसली जुबान; संजय रा​ऊ​त का किया अपमान​ !

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,746फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
132,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें