29 C
Mumbai
Friday, February 23, 2024
होमब्लॉगअहमदाबाद में प्रधानमंत्री और यूएई राष्ट्रपति का रोडशो: भारत-यूएई संबंधों पर नया...

अहमदाबाद में प्रधानमंत्री और यूएई राष्ट्रपति का रोडशो: भारत-यूएई संबंधों पर नया अध्याय?

Google News Follow

Related

प्रशांत कारुलकर

9 जनवरी को जब गुजरात के मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल के साथ, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान का अहमदाबाद एयरपोर्ट पर हार्दिक स्वागत किया और वहां से गांधी आश्रम तक रोडशो किया, उस पल ने कुछ खास संकेत दिए। यह महज प्रोटोकॉल से बढ़कर भारतीय उपमहाद्वीप और खाड़ी के मोती यूएई के बीच रिश्तों का नया अध्याय शुरू करने की तैयारी का ही इशारा था। आइए, इस ऐतिहासिक घटना के मायनों पर गौर करें-

1. व्यापारिक सहयोग का बढ़ता कदम: यूएई भारत का तीसरा सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार है और दोनों देशों के बीच वार्षिक कारोबार 88 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक है। यह रोडशो भारत को निवेश आकर्षित करने के लिए एक प्रमुख मंच के रूप में दिखाता है, खासकर ऊर्जा, बुनियादी ढांचा और नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्रों में। इस रोडशो के दौरान हुए समझौतों से भविष्य में और सहयोग बढ़ने की उम्मीद है।

2. रणनीतिक साझेदारी का मजबूत बंधन: सुरक्षा सहयोग भारत-यूएई रिश्तों का एक अन्य महत्वपूर्ण स्तंभ है। दोनों देशों ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ने और समुद्री सुरक्षा को मजबूत करने के लिए कई समझौते किए हैं। यह रोडशो दोनों देशों के बीच रणनीतिक साझेदारी को दर्शाता है और भविष्य में सुरक्षा सहयोग को और मजबूत बनाने की ओर संकेत करता है।

3. क्षेत्रीय सहयोग की नई उम्मीदें: भारत और यूएई दोनों ही इंडियन ओशन रिम एसोसिएशन (IORA) और गुआम के सदस्य हैं। यह रोडशो इन क्षेत्रीय संगठनों के सहयोग को मजबूत बनाने और हिंद महासागर क्षेत्र में शांति और स्थिरता को बढ़ावा देने की दिशा में एक बड़ा कदम है।

4. सांस्कृतिक आदान-प्रदान का पुल: इस रोडशो से दोनों देशों की संस्कृतियों के बीच आदान-प्रदान को भी बढ़ावा मिलेगा। भारतीय कला, फिल्म और योग को यूएई में लोकप्रियता मिल रही है, वहीं यूएई की आधुनिक तकनीक और बुनियादी ढांचे से भारत सीख सकता है।

5. भविष्य की संभावनाएं: यह रोडशो आने वाले समय में भारत-यूएई संबंधों के उज्ज्वल भविष्य का संकेत देता है। दोनों देशों के बीच आर्थिक, रणनीतिक और सांस्कृतिक सहयोग बढ़ने की उम्मीद है। दोनों देशों का यह नया अध्याय विश्व राजनीति में भी एक महत्वपूर्ण प्रभाव रख सकता है।

हालांकि, रोडशो से उत्साहित होने के साथ-साथ हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए कि रिश्तों को मजबूत बनाए रखने के लिए निरंतर प्रयासों की आवश्यकता है। वीजा प्रक्रिया को आसान बनाना, भारतीय कामगारों के अधिकारों का संरक्षण करना और आतंकवाद के खिलाफ संयुक्त प्रयास जारी रखना ऐसे ही कुछ महत्वपूर्ण क्षेत्र हैं, जिन पर दोनों देशों को मिलकर काम करना चाहिए। अंत में, प्रधानमंत्री और यूएई राष्ट्रपति का यह रोडशो सिर्फ एक तमाशा नहीं था, बल्कि भारत-यूएई संबंधों के उज्ज्वल भविष्य का शुभ संकेत था।

ये भी पढ़ें 

2024 और युद्ध : क्या वैश्विक अर्थव्यवस्थाएं डगमगाएंगी?

मोदी सरकार का एक्शन: सोमालिया में फंसे 15 भारतीयों की वापसी तय

दक्षिण एशिया: 2024 बदलेगा क्षेत्र का राजनीतिक परिदृश्य

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में नहीं जाएंगे सोनिया गांधी, खड़गे और अधीर रंजन    

राम मंदिर: न्याय, सत्य और करुणा का प्रतीक

अखिलेश यादव ने राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा का न्योता ठुकराया,कही ये बात…   

भूकंप की जमीन पर खड़ा हुआ आर्थिक साम्राज्य: जापान की कहानी

भारत-पाकिस्तान जल विवाद: समस्याएं और संभावनाएं

अयोध्या​ राम मंदिर​ निर्माण में नहीं प्रयोग हुए हैं लोहे और सीमेंट !

नए भारत का नया कानून

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,760फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
130,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें