28 C
Mumbai
Sunday, June 16, 2024
होमदेश दुनियाG20 Summit: विदेशी मेहमान UPI वॉलेट से करेंगे भुगतान, सरकार ने बनाया...

G20 Summit: विदेशी मेहमान UPI वॉलेट से करेंगे भुगतान, सरकार ने बनाया प्लान

भारत सरकार जी 20 शिखर सम्मेलन में भाग लेने वाले लगभग 1,000 विदेशी प्रतिनिधियों को यूपीआई वॉलेट देने के लिए तैयारी की है।    

Google News Follow

Related

प्रशांत कारुलकर

भारत सरकार इस सप्ताह नई दिल्ली में जी 20 शिखर सम्मेलन में भाग लेने वाले लगभग 1,000 विदेशी प्रतिनिधियों को UPI (यूपीआई) वॉलेट देने के लिए तैयार है। इस कदम का उद्देश्य भारत की डिजिटल भुगतान क्षमता को प्रदर्शित करना और प्रतिनिधियों को दुनिया की सबसे लोकप्रिय वास्तविक समय भुगतान प्रणाली यूपीआई का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करना है।

500-1,000 रुपये प्रत्येक UPI (यूपीआई) वॉलेट में रुपये लोड किए जाएंगे। जिसका उपयोग प्रतिनिधि नई दिल्ली में व्यापारियों, रेस्तरां और अन्य प्रतिष्ठानों में भुगतान करने के लिए कर सकते हैं। वे वॉलेट का उपयोग अन्य UPI (यूपीआई) उपयोगकर्ताओं को पैसे ट्रांसफर करने या एटीएम से नकदी निकालने के लिए भी कर सकते हैं।

UPI (यूपीआई) भुगतान करने का एक त्वरित, सुविधाजनक और सुरक्षित तरीका है। इसमें उपयोगकर्ताओं को अपने बैंक खाते का विवरण या क्रेडिट कार्ड की जानकारी साझा करने की आवश्यकता नहीं है। भुगतान केवल प्राप्तकर्ता की UIP(यूपीआई) आईडी या मोबाइल नंबर दर्ज करके किया जा सकता है।

भारत सरकार कैशलेस अर्थव्यवस्था के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए यूपीआई को एक प्रमुख उपकरण के रूप में बढ़ावा दे रही है। हाल के वर्षों में यूपीआई में तेजी से वृद्धि देखी गई है और अब इसका उपयोग 2 अरब से अधिक भारतीयों द्वारा किया जाता है।

जी20 शिखर सम्मेलन भारत के लिए अपनी डिजिटल भुगतान क्षमताओं को दुनिया के सामने प्रदर्शित करने का एक बड़ा अवसर है। UPI (यूपीआई) वॉलेट प्रतिनिधियों को प्रत्यक्ष अनुभव देगा कि यूपीआई का उपयोग करके भुगतान करना कितना आसान और सुविधाजनक है।

भारत सरकार को उम्मीद है कि यूपीआई वॉलेट प्रतिनिधियों को अपने देशों में यूपीआई अपनाने के लिए प्रोत्साहित करेंगे।  इससे दुनिया भर में डिजिटल भुगतान और वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी।

यूपीआई वॉलेट के अलावा, भारत सरकार प्रतिनिधियों को अन्य डिजिटल उपकरण भी प्रदान कर रही है, जैसे जी20 मोबाइल ऐप और भाषिनी अनुवाद ऐप।  ये उपकरण प्रतिनिधियों को शिखर सम्मेलन में नेविगेट करने और अपनी भाषा में जानकारी तक पहुंचने में मदद करेंगे।

भारत सरकार को विश्वास है कि जी20 शिखर सम्मेलन सफल होगा और यह दुनिया के सामने भारत की डिजिटल शक्ति का प्रदर्शन करेगा।

ये भी पढ़ें   

विशेष सत्र का एजेंडा बताना जरुरी है या नहीं? जाने सबकुछ

सनातन धर्म पर INDIA में दो फाड़, डैमेज कंटोल में जुटे विपक्षी नेता      

विपक्ष के नाक के नीचे से हटा “इंडिया” नहीं हुई विरोधियों को खबर

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,562फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
161,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें