26 C
Mumbai
Thursday, July 18, 2024
होमस्पोर्ट्सअब मिलेंगे करोड़ों, तब 1983 की विश्वकप विजेता टीम को मिले थे...

अब मिलेंगे करोड़ों, तब 1983 की विश्वकप विजेता टीम को मिले थे इतने….  

Google News Follow

Related

1983 में कपिल देव की टीम ने जब क्रिकेट विश्वकप जीता था, उस समय खिलाड़ियों को एक-एक लाख रूपये दिए जाने का ऐलान किया गया था। उस समय प्रसिद्ध गायिका लता मंगेशकर ने एक कार्यक्रम भी किया था। इसके बाद जब 28 साल बाद माही की टीम ने 2011 में  खिताब जीता तो उस समय खिलाड़ियों  बड़ी रकम दिए जाने का ऐलान किया गया था। इस बार यानी अगर भारतीय टीम 2023 में  विश्वकप जीतती है तो इस बार भी उसे मोटी रकम मिलेगी।
1983 का विश्वकप जीतने वाली टीम को दैनिक भत्ता दिया जाता था। यह राशि 50 पाउंड थी । इस संबंध में 1983 टीम में विकेटकीपर रहे सैयद किरमानी ने एक साक्षात्कार में कहा था कि ” उस समय हमें 50 पाउंड दैनिक भत्ते दिया जाता था और इसका उपयोग नाश्ता, कपड़ा धोने खाना खाने आदि में उपयोग करते थे। इतना ही नहीं, उन्होंने बताया कहा कि पूरे टूर के लिए  हमें 15000 बोनस के रूप में मिला था। बोनस को कप जीतने के बाद भारत पहुंचने पर दिया गया था।

वहीं 2011 में जब भारतीय टीम ने विश्वकप जीता था उस समय बीसीसीआई ने टीम में शामिल सभी खिलाड़ियों  को दो दो करोड़ रुपये दिए गए थे। इसके अलावा कई राज्य सरकारें भी  खिलाडियों को पुरस्कृत किया था। 2011 में विश्वकप की कुल इनामी राशि 66 करोड़ थी। खिताब जीतने के बाद टीम इंडिया को 25 करोड़ रुपये की रकम आईसीसी द्वारा दी गई थी।  जबकि उपविजेता टीम रही श्रीलंका को 12 करोड़ रुपये दिया गया था। बाकी की रकम को अन्य टीमों में नियमानुसार बांटा गया था।

इस बार, विश्वकप जीतने वाली टीम को आईसीसी द्वारा 33. 17 करोड़ रूपये पुरस्कार के रुप में दिया जाएगा। जबकि उपविजेता टीम को आधी राशि दी जाएगी। सेमीफाइनल की दोनों टीमों को 6. 63  करोड़ रुपये दी जाएगी। बहरहाल, आज बीसीसीआई  सबसे अमीर है लेकिन 1983 में विश्वकप जीतने वाली टीम को पुरस्कार देने के लिए पैसे नहीं थे। तब बीसीसीआई ने  लता मंगेशकर से  मदद मांगी थी। तब दिल्ली के इंदिरा गांधी स्टेडियम में संगीत का कार्यक्रम रखा गया था। इससे 20 लाख रुपये एकत्रित हुए जिसे भारतीय खिलाड़ियों में बांट दिया गया था।

इसके बाद बीसीसीआई ने यह निर्णय किया था कि लता मंगेशकर के लिए प्रत्येक स्टेडियम में एक सीट रिजर्व रहेगी। 2003 में जब लता मंगेशकर को अपने अस्पताल के लिए पैसों की जरूरत थी, तब बीसीसीआई ने चैरिटी मैच खेला था जो श्रीलंका के खिलाफ खेला गया था इससे मिलने वाली राशि को लता मंगेशकर के पिता की याद में बनाया गया दीनानाथ मंगेशकर अस्पताल  को दिया गया था।

ये भी पढ़ें                

World Cup-2023: ऑस्ट्रेलिया की बड़ी कमी का क्या फाइनल में टीम इंडिया उठाएगी फायदा?

भारतीय टीम की भगवा जर्सी पर ममता का वार, BJP का जोरदार पलटवार          

भारत-ऑस्ट्रेलिया फाइनल: मैच देखेंगे PM MODI, और कौन सेलिब्रिटी रहेंगे मौजूद    

लेखक से अधिक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

The reCAPTCHA verification period has expired. Please reload the page.

हमें फॉलो करें

98,504फैंसलाइक करें
526फॉलोवरफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

अन्य लेटेस्ट खबरें